How are rehabilitation therapies beneficial after stroke?

Nowadays, people prefer rehabilitation therapy for the recovery of your health after the surgery and any type of injury. Rehabilitation therapy is considered as the best option for regaining your health. Doctors also suggest rehabilitation therapy to the patients for stroke and any major problem. 

Definition of rehabilitation therapy

It is a type of therapy that refers to rehab therapy. It encompasses a range of interventions that is aimed at restoring or improving the physical, mental and cognitive abilities after injury, long term illness and surgery. The primary goal of rehabilitation therapy is to enhance the overall functioning and quality of life. It is a multidisciplinary approach that is beneficial for patients, especially those who are getting Spine surgery in Ludhiana. There are different types of rehabilitation therapy. 

Types of the rehabilitation process. 

The process of rehabilitation is beneficial for the recovery of the human body. 

  • Physical therapy: Physical therapy is beneficial for increasing the stability, strength, movement and functions of the body. Physical therapy is beneficial for the improvement of bodily functions. 
  • Occupational therapy: occupational therapy is focused on restoring the ability to perform daily activities. The therapy is meant to improve fine motor skills, restore balance, or assist patients in learning how to increase their functional ability via the use of adaptive equipment, among other potential treatment options.
  • Speech Therapy: speech therapy is used to address the difficulties with speech, communication and or swallowing. 
  • Respiratory therapy: Beneficial for the problem in breathing. This therapy is helpful for decreasing respiratory distress and maintaining open airways.
  • Cognitive therapy: Cognitive therapy is also called cognitive behavior rehabilitation; this therapy works with patients to improve memory, thinking and reasoning skills.
  • Vocational Rehabilitation:  Vocational activities such as painting, crafting and many more are beneficial for the improvement of psychological health. 

Definition of stroke 

Stroke is a condition in which the supply of blood to the different parts of the brain and other parts of the body. This condition is leading to the deprivation of oxygen and nutrients to the cells of the brain. This can happen in two different mechanisms. Ischemic Stroke and Hemorrhagic Stroke. 

  • Ischemic Stroke: It is the common type of stroke and recurring of blood clot and plaque. In this type of stroke the buildup of blood blocks in the brain vessels. 
  • Hemorrhagic stroke: It is not that much common but more severe. It happens when a blood vessel in the brain ruptures and causes bleeding and pressure on the tissues of the brain. 

How are rehabilitation therapies beneficial after stroke?

After the stroke, rehabilitation therapy is beneficial for the recovery of different aspects. It is a comprehensive and multidisciplinary approach in which several healthcare professionals work together to treat the stroke and regain the ability of the health. The benefits of rehabilitation therapy after stroke are as follows: 

  • Functional independence: Rehabilitation therapy is helpful for the stroke survivors to regain and improve their ability to perform daily activities independently. With some targeted exercises and interventions, individuals can regain strength, balance and coordination.
  • Speech and communication enhancement: The stroke survivors experience difficulties with speech and communication. This therapy is a part of rehabilitation therapy that is helpful for the persons to regain the linguistic skills, improve articulation and address the swallowing issues. 
  • Motor skills Improvement: Stroke affects the motor skills of the person and leads to difficulties in the movement. It is particularly focused on improving motor skills, including sine and gross coordination. 
  • Cognitive Rehabilitation: Stroke can put an impact on cognitive functions like memory, attention, and problem-solving. Cognitive rehabilitation strategies aim to improve cognitive abilities, allowing individuals to better navigate daily tasks and challenges.
  • Emotional Well-being: Coping with the aftermath of a stroke can be emotionally challenging. Rehabilitation therapy provides a supportive environment, often involving counseling or mental health support, to address emotional issues and promote psychological well-being.
  • Prevention of Complications: Rehabilitation therapy helps prevent secondary complications that may arise due to immobility or lack of activity. This includes reducing the risk of muscle atrophy, joint contractures, and pressure ulcers.
  • Quality of Life Enhancement: By addressing physical, cognitive, and emotional aspects, rehabilitation therapy contributes significantly to improving the overall quality of life for stroke survivors. It empowers individuals to actively engage in their communities and maintain a fulfilling lifestyle.

Nowadays, people give preference to rehabilitation therapies. It offers you numerous benefits that are helpful and suggested by the doctors of Neurociti hospital after the back pain treatment in Ludhiana.

Send Us A Message

    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
    back pain

    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

    • July 12, 2024

    • 37 Views

    Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
    Hindi

    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

    • July 8, 2024

    • 117 Views

    साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
    Hindi

    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

    • July 4, 2024

    • 377 Views

    पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

    Guide to consult a good neurosurgeon in Ludhiana, Punjab.

    Brain is the most important, powerful and strongest part of our body. The study related to the problems of the brain is considered to be called Neurology. It is that branch of medicine which studies the disorders related to the nervous system. It is an interesting study which tells about the connection between the brain and the body and how the body works on the command of the brain.to know briefly you can see Neuro Hospital in Ludhiana.

    Some common disorders related to Neurology are:

    1. Stroke: Stroke generally means when there is blockage of blood in one part of the brain or a brain vessel bursts. The main reason for the stroke is considered to be high blood pressure.
    2. Epilepsy: Epilepsy is a brain condition related to abnormal electrical activity called recurring seizures. There are differents forms and conditions of Epilepsy. It affects the all age people
    3. Multiple Sclerosis (MS): Multiple Sclerosis is a disease related with  the central nervous system, it affects the central nervous system. Some people get partially affected by it and some people lose the ability to watch, walk, talk etc completely.
    4. Parkinson’s disease: It is a disease which is caused by the loss of dopamine producing cells in the brain. It is a progressive disorder affecting the nerve system and the body parts controlled by it.
    5. Alzheimer disease: Alzheimer disease can be defined as a situation in which a person forgets to respond properly and behave rightly. It basically affects that part of the brain which controls the memory, thoughts and understanding of the person.
    6.  Migraines: Migraines is the type of a headache getting triggered mostly on one side of your head. It shows sensitivity towards harsh light , sound and hunger.

    Causes for the Neurological disorders: Neurological system of the body is a very complex system of the body. A little dysfunctioning of the neuro system can cause a big neuro problem and can affect your day to day life. The main causes for the neurological disorders vary in different problems. To know more can see Neurosurgeon in Punjab But some general causes can be:

    1 Physical injury

    1. Genetics
    2. Infection
    3. Nutrition related causes
    4. LIfestyle related causes etc.

    Some common symptoms related to neurological disorders

    The symptoms related to the neurological disorder vary according to the situation, for that consult Neuro Hospital in Ludhiana.But some common symptoms are:

    • Memory loss
    • Headache that changes 
    • Losing site, vision
    • Body not able to respond on the command of brain
    • Lacking in communication
    • Not able to function with other parts of the body
    • Muscles rigidity
    • Tremors and seizures etc.

    Some preventive measures to keep your nerve system healthy and make your brain work properly:

    • Exercise regularly
    • Meditate
    • Stay active
    • Eat healthy diet
    • Avoid bad habits like drinking alcohol, smoking 
    • Avoid stressing and Overthinking
    • Avoid processed food products and artificial sugar

     Guidance by the best  Neurosurgeon in Punjab, will help you in understanding the problem you are dealing with and will provide with proper guidance and procedure.

    Send Us A Message

      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
      back pain

      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

      • July 12, 2024

      • 37 Views

      Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
      Hindi

      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

      • July 8, 2024

      • 117 Views

      साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
      Hindi

      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

      • July 4, 2024

      • 377 Views

      पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

      अत्याधिक चिंता कैसे आपके शरीर को प्रभावित कर सकती है ?

      अत्यधिक चिंता आपके शरीर पर बुरा प्रभाव डालती है। चिंता की यह निरंतर स्थिति, काफी खतरनाक मानी जाती है, क्युकि चिंता को चिता के समान जाना जाता है। वहीं चिंता कई शारीरिक और भावनात्मक मुद्दों को जन्म दे सकती है। तो आइए देखें कि चिंता किस प्रकार आपके शरीर को प्रभावित करती है और इसे प्रबंधित करना क्यों महत्वपूर्ण है ;

      शरीर पर अत्यधिक चिंता का प्रभाव क्या पड़ता है ?

      मांसपेशियों में तनाव : 

      जब आप चिंतित महसूस करते है, तो आपकी मांसपेशियां तनावग्रस्त हो जाती है। इस तनाव के कारण दर्द और पीड़ा हो सकती है, विशेषकर आपकी गर्दन, कंधों और पीठ में। समय के साथ, इसके परिणामस्वरूप दीर्घकालिक असुविधा और लचीलापन कम हो सकता है।

      पाचन संबंधी समस्याएं : 

      चिंता आपके पाचन तंत्र को बाधित कर सकती है, जिससे अपच, सूजन और यहां तक कि चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस) जैसी समस्याएं हो सकती है। पेट दर्द और मतली अत्यधिक चिंता के आम साथी है।

      दिल की धड़कन : 

      चिंता के कारण दिल तेजी से दौड़ सकता है या फड़क सकता है, जिससे इस महत्वपूर्ण अंग पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है। लंबे समय तक चिंता समय के साथ हृदय संबंधी समस्याओं के विकास में योगदान कर सकती है। अगर चिंता के कारण आपके दिल की धड़कन बढ़ गई है तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए। 

      श्वसन संबंधी समस्याएं : 

      तेजी से सांस लेना और सांस लेने में तकलीफ अक्सर चिंता के साथ होती है। इससे हाइपरवेंटिलेशन हो सकता है, जिससे आपको चक्कर आ सकते है।

      कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली : 

      दीर्घकालिक चिंता आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देती है, जिससे आप बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते है। आपके शरीर की संक्रमण से लड़ने की क्षमता ख़राब हो जाती है।

      वजन में उतार-चढ़ाव : 

      चिंता के कारण खाने की आदतों में बदलाव आ सकता है। कुछ लोग चिंतित होने पर अधिक खा सकते है, जबकि अन्य की भूख कम हो सकती है। वजन में इस उतार-चढ़ाव के दीर्घकालिक स्वास्थ्य परिणाम हो सकते है।

      नींद की समस्या : 

      चिंता के कारण अक्सर सोने और सोते रहने में कठिनाई होती है। आरामदेह नींद की कमी के कारण थकान हो सकती है और चिंता और भी बढ़ सकती है।

      त्वचा की स्थिति : 

      तनाव और चिंता से मुँहासे, एक्जिमा और सोरायसिस जैसी त्वचा की स्थिति खराब हो सकती है। आपकी त्वचा अधिक संवेदनशील हो सकती है और मुंहासे निकलने का खतरा हो सकता है।

      हार्मोनल असंतुलन : 

      चिंता आपके शरीर के हार्मोनल संतुलन को बाधित कर सकती है, जिससे महिलाओं में मासिक धर्म चक्र अनियमित हो सकता है और पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर प्रभावित हो सकता है। इससे प्रजनन क्षमता और यौन स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है।

      पुरानी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है : 

      लंबे समय तक चिंता मधुमेह, उच्च रक्तचाप और ऑटोइम्यून विकारों जैसी पुरानी बीमारियों के बढ़ते जोखिम से जुड़ी होती है।

      संज्ञानात्मक हानि : 

      चिंता आपकी ध्यान केंद्रित करने और निर्णय लेने की क्षमता में बाधा डाल सकती है। इससे स्मृति संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं, जो आपके समग्र संज्ञानात्मक कार्य को प्रभावित कर सकती है।

      मनोदशा संबंधी विकार : 

      चिंता अक्सर अवसाद के साथ जुड़ी रहती है। यदि इसे अनियंत्रित छोड़ दिया जाए, तो यह मनोदशा संबंधी विकारों के विकास में योगदान कर सकता है, जो और भी अधिक दुर्बल करने वाला हो सकता है। अगर आपके सोचने समझने की शक्ति बिल्कुल ख़त्म हो गई है तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

      मादक द्रव्यों का सेवन : 

      कुछ व्यक्ति चिंता से निपटने के लिए शराब या नशीली दवाओं जैसे पदार्थों का सेवन करने लगते है, जिससे लत की समस्याएँ पैदा होती है।

      जीवन की खराब गुणवत्ता : 

      चिंता का निरंतर बोझ आपके जीवन की समग्र गुणवत्ता को काफी कम कर सकता है। आप आनंददायक अनुभवों और सामाजिक अवसरों से चूक सकते है।

      जीवनकाल में कमी : 

      चिंता के ये सभी शारीरिक और भावनात्मक प्रभाव आपके समग्र जीवनकाल को कम कर सकते है, जिससे चिंता को तुरंत और प्रभावी ढंग से संबोधित करना आवश्यक हो जाता है।

      सुझाव :

      चिंता को प्रबंधित करने और इसके इलाज के लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।

      निष्कर्ष :

      अत्यधिक चिंता आपके शरीर पर कहर बरपा सकती है। यह विभिन्न प्रणालियों को प्रभावित करता है और कई प्रकार की शारीरिक और भावनात्मक समस्याओं को जन्म दे सकता है। अपनी भलाई की रक्षा के लिए, विश्राम, माइंडफुलनेस, थेरेपी और, कुछ मामलों में, दवा जैसी तकनीकों के माध्यम से चिंता का प्रबंधन करना महत्वपूर्ण है। सहायता और समर्थन मांगना एक स्वस्थ, खुशहाल जीवन बनाए रखने की दिशा में एक सक्रिय कदम है।

      Send Us A Message

        Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
        back pain

        Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

        • July 12, 2024

        • 37 Views

        Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

        क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
        Hindi

        क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

        • July 8, 2024

        • 117 Views

        साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

        क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
        Hindi

        क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

        • July 4, 2024

        • 377 Views

        पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

        किस तरह का सिरदर्द होने पर न्यूरोलॉजिस्ट का करें चयन !

        सिर में दर्द या सिर का रह-रह कर दर्द होना भी काफी गंभीर समस्या है, क्युकि सिर का दर्द हमारे काम के साथ साथ हमारे शरीर पर भी बुरा असर डालता है। वही ये समस्या क्यों होती है, या किस तरह के सिर दर्द में हमे न्यूरोलॉजिस्ट के पास जाना चाहिए के बारे में आज के आर्टिकल में बात करेंगे तो अगर आप भी यह सोच कर परेशान रहतें है की किस तरह के सिर दर्द के लिए न्यूरोलॉजिस्ट के पास जाए तो आर्टिकल के साथ अंत तक बने रहें ;

        सिरदर्द में किस तरह के लक्षण दिखने पर न्यूरोलॉजिस्ट का करें चयन ?

        • आपको न्यूरोलॉजिस्ट का चयन तब करना चाहिए, जब आपका सिरदर्द एक या दो दिन से अधिक समय तक लगातार बना हुआ है। 
        • आपका सिरदर्द अचानक होने लगता है। 
        • तनाव से आपके सिर का दर्द और बढ़ जाता है। 
        • आपका सिरदर्द सुबह से ही शुरू हो जाता है। 
        • आपको देखने में परिवर्तन का अनुभव हो रहा है। 
        • आपको सिरदर्द के साथ दौरे पड़ने की समस्या भी उत्पन्न हो गई है आदि। 

        उपरोक्त लक्षण अगर आपमें नज़र आए तो आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट से संपर्क करना चाहिए।

        सिर में दर्द की समस्या क्यों होती है?

        • सिर में दर्द की समस्या ज्यादातर दवाइयों का सेवन करने, मांसपेशियों में तनाव, हार्मोन में बदलाव या फिर पानी की कमी के कारण हो सकता है। 
        • वही कुछ मौकों पर मानसिक तनाव, गलत तरीके से उठने-बैठने की आदत, शराब का सेवन, नींद की कमी या समय पर भोजन ना करने की वजह से भी इस प्रकार का दर्द हो सकता है।
        • इसके अलावा कई बार हमारे सिर में गंभीर चोट लग जाती है जिस वजह से भी हमे सिर में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है।

        अगर सिर में चोट की वजह से आपको सर्जरी करवाने की जरूरत पड़े तो इसके लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

        सिर दर्द का इलाज क्या है ?

        • सिर दर्द के इलाज के लिए विभिन्न विकल्प मौजूद है। हालांकि इलाज आमतौर पर उसके कारण के मुताबिक किया जाता है। जैसे कि नेज़ल स्प्रे और कुछ अन्य दवाइयों के माध्यम से दर्द को दूर किया जाता है। 
        • वही ज़रूरत पड़ने पर आपका न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर आपकी डाइट में भी बदलाव भी ला सकते है। इसके अलावा कुछ ऐसी थैरेपी भी है जो इन स्थितियों में फायदेमंद साबित होती है। यदि दर्द ज़्यादा है तो मसाज के माध्यम से भी राहत मिल सकती है।

        सिर दर्द के लिए डॉक्टर किस तरह का परीक्षण कर सकते है ?

        • सीटी स्कैन। 
        • एमआरआई स्कैन। 
        • ईईजी (मस्तिष्क तरंगों को मापने) का स्कैन आदि। 

        सिर दर्द की जाँच के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

        • अगर आपको उपरोक्त संकेत दिख रहें है सिर दर्द के दौरान तो आपको समय रहते न्यूरो सीटी हॉस्पिटल के अनुभवी न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर का चयन कर लेना चाहिए। इसके अलावा अगर आप किसी गंभीर समस्या का सामना कर रहें है तो इससे बचाव के लिए आपको यहाँ के डॉक्टरों के द्वारा अच्छे से गाइड भी किया जाता है।

        निष्कर्ष :

        • व्यक्ति के लिए सिर में दर्द का होना काफी खतरनाक है, वही ये समस्या क्यों उत्पन होती है, इसके बारे में जानने के बाद इसे नज़रअंदाज़ न करें। तो अगर आपको भी इस तरह की समस्या ने परेशान कर रखा है तो इससे बचाव के लिए समय रहते डॉक्टर के सम्पर्क में जरूर आए।

         

        Send Us A Message

          Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
          back pain

          Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

          • July 12, 2024

          • 37 Views

          Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

          क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
          Hindi

          क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

          • July 8, 2024

          • 117 Views

          साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

          क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
          Hindi

          क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

          • July 4, 2024

          • 377 Views

          पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

          Strategies and Support for Navigating Life with Left-Sided Hemiplegia

          Living with left-sided hemiplegia can give its own set of issues, compelling individuals to haggle all aspects of life with boldness and guts. Left-sided hemiplegia is a problem that causes shortcomings or paralysis on the left half of the body because of harm to the right half of the brain. Left-sided hemiplegia, whether brought about by a stroke, traumatic brain injury, or an inherent problem, can significantly affect regular exercises and in general personal satisfaction.

          Understanding Left-Sided Hemiplegia

          A problem that causes shortcomings or paralysis on the left half of the body is known as left-sided hemiplegia. Harm to the right half of the mind, normally as an outcome of a stroke, extreme brain injury, or an inborn problem, is generally the reason. This disease can affect an individual’s ability to direct day-to-day activity and take part in various parts of life.

          Seeking Expert Care at Neuro Hospitals in Ludhiana

          Seeking expert medical attention is critical while dealing with left-sided hemiplegia. There are respectable neuro hospitals in Ludhiana that are equipped with specialized facilities and competent medical personnel who can give complete care to people suffering from neurological problems. NeuroCiti facility is one such recognized facility, with a multidisciplinary approach to neurology and modern treatment choices suited to individual needs.

          Consulting with a Neurologist in Ludhiana

          It is essential to contact a neurologist who spends significant time in neurorehabilitation and knows the troubles of left-sided hemiplegia to plan a proper treatment procedure. A neurologist in Ludhiana, like those at NeuroCiti Hospital, can survey every patient’s specific necessities and foster a customized care plan.

          Therapeutic Approaches for Left-Sided Hemiplegia

          Physical Therapy: Physical treatment can assist individuals with left-sided hemiplegia to work on their versatility and strength. A Physical specialist can make a custom-made preparation program to further develop balance, coordination, and muscle control.

          Supportive Resources for Individuals and Families

          Besides clinical intervention, people and families impacted by left-sided hemiplegia expect admittance to support organizations and services. Here are a few resources to consider:

          Support Groups: Connecting with individuals who have had similar situations can be really beneficial. Look for local support groups or online communities for people with left-sided hemiplegia and their loved ones. These groups provide a secure environment for people to discuss their experiences, seek guidance, and receive emotional support.

          Educational Workshops: Attend hemiplegia management instructional programs and seminars. Expert speakers, practical demonstrations, and the most recent developments in treatment choices are frequently featured at these events. These sessions provide individuals with knowledge and strategies to effectively manage their disease.

          Online Resources: Several websites, including the Flint Rehab entry on left-sided hemiplegia, provide educational content, ideas, and tools to help people understand and manage the disease. Another worthwhile resource to investigate is NeuroCiti Hospital, which provides thorough information on neurological diseases and treatment options.

          Conclusion

          Living with left-sided hemiplegia can be difficult, but with the correct methods, support, and access to specialist care, people can live full lives. Neuro Hospital in Ludhiana, such as NeuroCiti Hospital, as well as neurologists that specialize in neurorehabilitation, can give essential medical care. Individuals with left-sided hemiplegia can improve their quality of life and thrive despite the condition by combining therapeutic approaches such as physical, occupational, and speech treatments with the help of local communities, support groups, and educational resources.

          Send Us A Message

            Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
            back pain

            Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

            • July 12, 2024

            • 37 Views

            Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

            क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
            Hindi

            क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

            • July 8, 2024

            • 117 Views

            साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

            क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
            Hindi

            क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

            • July 4, 2024

            • 377 Views

            पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

            ब्रेन स्‍ट्रोक या दिमाग में खून जमने की समस्या, जाने इसके कारण लक्षण और उपाए|

            खून का जमना या ब्रेन स्‍ट्रोक क्या है ?

             ब्रेन स्‍ट्रोक या दिमाग में खून जमना उसे कहा जाता है जब दिमागी कोशिकाएं कमजोर हो जाती हैं. और धमनियों में खून का थक्का जम जाता है।

             खून के जमाव को दिमाग का दौरा भी कहा जाता हैं और इस दोरे के दौरान मस्तिष्क की कोशिकाओं में ऑक्सीजन की कमी होने की वजह से वो नष्ट होने लगती हैं जिस कारन इस हिसे का मस्तिष्क ढंग से कार्य करने में असमर्थ रहता हैं। जिससे ब्रेन स्‍ट्रोक या खून के जमाव की समस्या उत्पन होती है |

            • इस बीमारी में कई बार ऐसा भी होता है कि दिमाग में रक्त संचार बहुत तेज होने की वजह से इसकी नसे फट भी जाती है |
            • जब खून का जमाव होता है तो ब्लड प्रेशर अचानक बढ़ता है और इसका असर सीधा जाकर हमारे शरीर पर पड़ता है और कई बार ये जमाव हमारी मौ-त का कारन भी बनता है |

            ब्रेन स्‍ट्रोक के कारण क्या हैं :

            • डायबिटीज के कारण |
            • हाई बीपी |
            • हाई कोलेस्ट्रॉल |
            • दिल का रोगी |
            • मोटापे का कारण |
            • स्मोकिंग |
            • चिंतन |
            • एक्सरसाइज न करना |
            • काम मात्रा में मांसाहारी व उच्च वसायुक्त भोजन का सेवन |

            सुझाव :

             यदि आप इस समस्या से जूझ रहे हैं तो बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट लुधियाना में हैं, तो यदि आपको परेशानी हैं मस्तिष्क से जुडी तो अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट से सलाह जरूर ले |

            लक्षण क्या हैं ब्रेन स्‍ट्रोक या खून जमाव के ?

             मुंह का तिरछा हो जाना।

            • दोनों हाथों का बेजान हो जाना।
            • जुबान का लड़खड़ाना
            • पैरालिसिस ब्रेन
            • अत्‍यधिक मेहनत करने या गुस्‍सा आने की समस्या |
            • दोनों या एक आंख में देखने में अचानक परेशानी होना।
            • अचानक चक्कर आना, चलने में परेशानी, संतुलन का बिगड़ना।
            • बिना कारण जाने अचानक गंभीर सिरदर्द ।

            किन बातों का रखे ध्यान :

             नशीली चीजों के इस्तेमाल से बचे |

            • भोजन में वसा या चिकनाई युक्त चीजे कम ले |
            • वजन का ध्यान रखें |
            • डॉक्टर की सलाह ले और उनपर अमल करें |
            • सप्ताह में 5 दिन करीब 30 मिनट तक वर्कआउट जरूर करें।
            • तो वही इस खतरे को कम करने के लिए वयस्क पुरुष या महिला को संतुलित आहार व रेशेदार भोजन का सेवन करना चाहिए।

            ब्रेन स्‍ट्रोक या खून के जमाव का इलाज :

             मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी को कारगर माना जाता हैं ब्रेन स्‍ट्रोक के इलाज में, क्युकि इस प्रक्रिया में रिट्रीवर स्टेंट डिवाइस को पेट एवं जांघ के बीच की जगह से रक्तवाहिनी में डाला जाता है और आर्टरी से होते हुए दिमाग तक पहुँचाया जाता है, जहाँ इसका उपयोग खून के थक्के को हटाने के लिए किया जाता है।

            • इसके इलाज के लिए किसी अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर का चुनाव करें और इसके लक्षणों के हिसाब से ऐसा ही कोई हॉस्पिटल भी ढूंढे ताकि आपका इलाज अच्छे से हो सके |

            निष्कर्ष :

             अंततः आपसे यही कहना होगा कि अगर इस बीमारी से जुड़े कोई भी लक्षण आपमें नज़र आए तो बिना समय गवाए इसका इलाज करवाए और इसके इलाज के लिए लुधियाना में Neurociti Hospital का चुनाव करे।

            क्युकि ये चिकित्सालय इस बीमारी के लिए काफी अच्छा माना जाता हैं और वहीं इस बीमारी के अनुभवी चिकित्सक Dr. Rajinder Singh, Dr. S.k Bansal, Dr Vikesh Gupta से जरूर मिले और अपनी परेशानी का हल पाए।  क्युकि इस हॉस्पिटल के डॉक्टर्स ने अभी तक ब्रेन स्‍ट्रोक के काफी मरीज़ो का इलाज कर उन्हें आराम दिलवाया हैं |

             

            Send Us A Message

              Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
              back pain

              Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

              • July 12, 2024

              • 37 Views

              Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

              क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
              Hindi

              क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

              • July 8, 2024

              • 117 Views

              साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

              क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
              Hindi

              क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

              • July 4, 2024

              • 377 Views

              पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

              लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट ने बताया क्यों अधिक चिंतन की वजह से लोग हो रहे दिमाग के मरीज़

              न्यूरोलॉजिस्ट लुधियाना: आज के इस विषय में हम बात करेंगे की कैसे लोग अधिक चिंतन की वजह से माइग्रेन जैसी बड़ी बीमारी का सामना करते है,और कैसे वो डॉक्टर की मदद से खुद को इस बीमारी से बहार निकालने में सफल हो पाते हैं |

              माइग्रेन होता क्या हैं….

              • माइग्रेन को हम आम भाषा में एक प्रकार का तेज सिरदर्द भी कह सकते हैं।
              • यह घबराहट, उल्टी, तेज़ प्रकाश और आवाज़ के प्रति संवेदनशीलता जैसे लक्षणों के साथ भी हो सकता है।
              • बता दे कि कई लोगों को यह दर्द सिर के एक तरफ ही महसूस होता है।
              • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि माइग्रेन या सिरदर्द अक्सर युवावस्था में शुरू होता है और 35 से 45 वर्ष की आयु के लोगों को सबसे अधिक प्रभावित भी करता है।

              यहाँ पर ये भी गौरतलब है की माइग्रेन समान्य सिर दर्द से काफी अलग होता है, क्युकि इसमे जो दर्द होता है वो काफी तेज होता है, और कभी-कभी बर्दाशत से बाहर भी हो जाता है। जैसे-

              कुछ लोगों को हर हफ्ते एक से ज्यादा बार ये होता हैं, जबकि अन्य को कभी-कभार ही ऐसा होता हैं। बता दे कि वैश्विक अध्ययनों से पता चला है कि दुनिया की लगभग 1% आबादी को क्रोनिक माइग्रेन होने की संभावना हो सकती है।

              लक्षण क्या हैं माइग्रेन के….

              • बता दे की प्रकाश, आवाज या गंध के प्रति संवेदनशील होना
              • थकान महसूस होना
              • भोजन की लालसा या भूख की कमी होना
              • मनोदशा में बदलाव आना
              • ज्यादा प्यास लगना
              • कब्ज या दस्त की परेशानी होना

              अब हम जानेगे की माइग्रेशन होता क्यों हैं….

              माइग्रेन के कारण को साफतौर पर पता नही लगाया जा सकता है। लेकिन हां ये दिमाग में होने वाले बदलाव के कारण हो सकता हैं और हा आनुवंशिक विशेषताओं में भी अटैक आने का एक कारण हो सकता हैं, क्योंकि परिवार का इतिहास होना माइग्रेन का एक सामान्य जोखिम कारक है। माइग्रेन से पीड़ित अधिकांश लोगों को अचानक ही अटैक आता है और फिर उससे लोगो को काफी परेशानी भी होती हैं जिसका सामना करना मुश्किल सा हो जाता है और कुछ दिमाग से जुडी नसों को भी काफी हद तक बारीकी से जोख़िम भी पहुँचता हैं जैसे-

              • नर्वेस कोम्युनिकेशन
              • रसायनों का संतुलन
              • रक्त वाहिकाएं

              अब कुछ लोगो के दिमाग में ये बात भी आ रही होगी कि माइग्रेन का कोई इलाज है या नहीं…..

               माइग्रेन का कोई पक्का इलाज तो नही है, लेकिन हा इसके लक्षणों का इलाज कर हम इसे काबू मे रख सकते है और लक्षणों के बारे में हम आपको ऊपर बता ही चुके हैं |

              • दूसरा डॉक्टर से सही सलाह ले और अक्सर उनके सम्पर्क मे रहे ताकि आपको काफी सहायता मिल सके |

              माइग्रेन से खुद का बचाव कैसे करें….                        

              • माइग्रेन के ट्रीगर को पहचाने जैसे की कब दर्द शुरु होता है और किस स्थिति मे यह तेज हो जाता है।
              • तनाव ना ले और अपने दिमाग को तनावमुक्त रखे और बेहतरीन तरीके से नींद ले।
              • नशे वाले पदार्थ से जितना हो सके दूर रहे।
              • प्रतिदिन योग करे और ध्यान लगाए, शुरुआत आप कुछ मिनट से भी कर सकते है लेकिन इसे निरंतर दिनचर्या मे शामिल जरूर करे।
              • सर मे किसी तरह का दर्द कई दिनो तक रहे तो डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करे।
              • खुद को हाईड्रेट रखे, पानी की कमी बिल्कुल भी ना होने दे।

              निष्कर्ष….

              जैसेकि हमने माइग्रेन से जुड़ी तकरीबन बातें आपके साथ सांझी की और अगर आपको थोड़ा भी अगर माइग्रेन होने का अनुभव होता है तो अपने नज़दीकी डायग्नोस्टिक से संपर्क जरूर करे या फिर लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट या न्यूरोसिटी अस्पताल में जरूर एक बार जाए ताकि आपको आपकी परेशानी का समाधान आसानी से मिल सके||

              Send Us A Message

                Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                back pain

                Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                • July 12, 2024

                • 37 Views

                Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                Hindi

                क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                • July 8, 2024

                • 117 Views

                साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                Hindi

                क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                • July 4, 2024

                • 377 Views

                पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

                Let’s embark on the journey to know the need for neurosurgery treatment

                Neurological treatment?

                Hearing the term ‘neuro problem’ often creates a dreadful sight among patients. There are different questions that occur in the patient’s mind and thoughts on what to do or how to handle the situation. The visit to the Neurologist in Ludhiana is common among patients who suffer from a brain tumor or any other major neurological disorders.

                Well, it’s not just the neuro health alone, but if it triggers problems with the spine or other connecting parts, then its direct impact can be seen on brain well-being. So, it’s all about being careful all the time and taking important measures under the supervision of the doctor. Seeking treatment on time ensures that the overall well-being is able to get back to normal on time; otherwise, the situation can turn out to be worse. If there are any issues, then you should make a quick decision and visit one of the best Neuro Hospital in Ludhiana.

                How are neurosurgery and neurological treatment different?

                An individual diagnosed with health conditions linked to the nervous system might not require surgical treatment. When you consult the neurologist for a condition like a muscle spasm that makes your head jerk, speech becomes slurred, or eyes twitch, then you are suggested certain medications to balance the situation. Additionally, there’s a possibility some of the symptoms that occur with the same are linked to the issue of tumors or other severe conditions. Therefore, the medical supervision of the best health expert is extremely essential.

                Neurosurgery incorporates the pain management treatment

                No two people are the same, and it’s not possible the reason for pain between 2 people will be the same. The only thing is that the reason behind pain might be linked to nerve inflammation, like trigeminal neuralgia. The pain occurs when you smile, brush your teeth, chew food, apply makeup, wash your face, and do any other kind of normal activity. For the situation with mild problems, the doctor suggests pain medications to ensure the problem does not get any worse with time.

                However, there are two sides to a story, and the same happens with pain. In some cases, the pain can occur due to severe blows to the head or an injury. Such conditions can lead to stroke or severe problems that make it tough for the person to enjoy a normal life. Therefore, it’s important that you get medical assistance from the neurosurgeon on time to handle the situation effectively and seek treatment to balance out everything.

                Headache – Are these alone the sign of a life-threatening condition?

                Headaches are common, but these need to be treated on time; otherwise, they can pose serious health concerns. Sometimes it can occur due to a car crash, injury, or any other severe problem. In such cases, the neurosurgeon performs a procedure to remove the blood clot so that the blood supply does not get affected by any chance.

                 

                Send Us A Message

                  Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                  back pain

                  Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                  • July 12, 2024

                  • 37 Views

                  Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                  क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                  Hindi

                  क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                  • July 8, 2024

                  • 117 Views

                  साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                  क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                  Hindi

                  क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                  • July 4, 2024

                  • 377 Views

                  पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

                  4 tips to get the expertise of the best neurosurgeon for your health

                  Don’t get the neurological care

                  One of the studies conducted by WHO has shown that around 80% of cases are due to neurological conditions. Usually, many people don’t show any symptoms of neurological conditions. Being mindful of well-being and visiting the top-rated neurosurgeon at the Neuro Hospital in Ludhiana is crucial.

                  For the well-being of your neuro condition, you must get the entire state evaluated effectively under the supervision of experts. If you are dealing with a skeletal or muscular problem, then make sure to find the reputed and Best Neuro Consultants in Ludhiana. To find the neurosurgeon, you should consider the given tips mentioned below.

                  Tips for finding the best neurosurgeon

                  Tip 1: Get suggestions from the insurance carrier
                  To begin the research, it’s better that you have a chat with the insurance carrier you know. Seeking assistance from the best Neurologist in Ludhiana helps you to know better about the necessary regulations and other important factors required to be followed. The insurance carriers are well-aware of the neurosurgeon in this field to ease the entire process.

                  Tip 2: Schedule initial consultation
                  It’s important to schedule the initial consultation with the neurosurgeon to get better clarity about the approach used by the doctor. The face-to-face initial consultation will help to tell better about the problem. Additionally, you can ask in detail about the procedure and what approach needs to be followed next. Additionally, you should have a proper look at the testimonials or reviews shared by the patients to better understand the neurosurgeon’s skills.

                  Tip 3: Comfort in making a communication
                  It’s important to be comfortable while communicating with the doctor. During the initial consultation, it’s better to look for someone else if it does not seem that way. It is the doctor’s responsibility to talk about the concerns and issues. If the doctor is hesitant to answer your questions, you better look for someone else. To better understand the neurosurgeon’s experience, you should check the reviews on websites or search engines.

                  Tip 4: Hospital facilities are important
                  The hospital facilities are extremely crucial. So, ensure that you check the availability of all the latest and advanced treatment options at the hospital. This would make it much easier for you to check that the hospital provides the best options to diagnose the problem and perform further treatment plans accordingly. It’s important to check every minute of information to ensure your treatment is effective for your overall well-being.

                  Final word

                  Here are some important tips that will make it easier for you to select the best neurosurgeon for your well-being. In case you are looking for one, then visit Neurociti Hospital. We have an experienced, board-certified, and skilled team of neurosurgeons.

                  Send Us A Message

                    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                    back pain

                    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                    • July 12, 2024

                    • 37 Views

                    Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                    Hindi

                    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                    • July 8, 2024

                    • 117 Views

                    साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                    Hindi

                    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                    • July 4, 2024

                    • 377 Views

                    पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

                    How Do Omega-3 Fatty Acids Affect The Development Of The Brain?

                    Fish oil is one of the most prominent over-the-counter supplements for fatty fish such as anchovies, sardines, salmon, and mackerel.

                    Generally, fish oil contains two main types of omega-3 fatty acids in it:

                    1. Docosahexaenoic acid (DHA)
                    2. Eicosapentaenoic acid (EPA)

                    They are well known for providing better heart health and also provide skin benefits.

                    But did you know that consuming fish oil can also be very beneficial for your brain, especially if you suffer from mild memory loss or depression?

                    In this blog, we will focus on how omega-3 fatty acids in fish oil can help the health of your brain and mental aspect, according to the Neurologist in Ludhiana.

                    What Is Omega-3 Fatty Acids Fish Oil?

                    Omega-3 fatty acids are basically polyunsaturated fats responsible for most mental and brain health benefits.

                    There are two types of omega-3 fatty acids that fish oil generally contains: EPA and DHA.

                    Besides that, both fatty acids are also elements of the cell membrane. It has powerful anti-inflammatory functions within the body. These fatty acids are also known for their essential role in human development and heart health.

                    If we look at the human diet, we will notice that you can exclusively find omega-3 fatty acids in fatty fish or fish oil. However, most people do not consume the recommended amount of fish to gain the right amount of omega-3 fatty acids in the body. They do not have enough EPA and DHA in their diet.

                    The body can make EPA and DHA from another omega-3 known as alpha-linolenic acid (ALA). You can find ALA in a number of other food sources, such as flaxseeds, walnuts, canola oil, chia seeds, soybean oil, and soybean.

                    But it is impossible for humans to convert their ALA to EPA or DHA efficiently.

                    Hence, you must take Omega 3 Capsules to contribute a good amount of EPA and DHA in your body even if you do not or are unable to consume much fish in your diet.

                    How Does Omega-3 Affect Your Brain?

                    According to the experts from a Neuro Hospital in Ludhiana, omega-3 fatty acids such as EPA and DHA are essential for the development and functioning of the normal brain throughout this phase of life.

                    In fact, EPA and DHA play an important role in developing the baby’s brain. In fact, according to the doctors of best IVF centre in Punjab pregnant women intaking a high amount of fish or fish oil with a larger number of babies being intelligent and a higher score in brain function from early childhood.

                    Apart from that, these fatty acids are also helpful in maintaining the function of the normal brain throughout life.

                    When we feed people a diet that does not contain omega-3 fatty acids, the amount of DHA in their brains decreases, creating a deficit in learning and memory.

                    In older people, the low number of DHA in the blood is directly associated with smaller brain sizes. It is a sign of brain aging.

                    Overview

                    Contact Neurociti Hospital to get further information on brain function and how you can improve it.

                    Send Us A Message

                      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                      back pain

                      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                      • July 12, 2024

                      • 37 Views

                      Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                      Hindi

                      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                      • July 8, 2024

                      • 117 Views

                      साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                      Hindi

                      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                      • July 4, 2024

                      • 377 Views

                      पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…