क्या मिर्गी महिलाओं में गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती है?

एक वक्त में कहा जाता था कि मिर्गी से पीड़ित महिलाए, कभी माँ नहीं बन सकती। लेकिन अब ऐसा नहीं है। हालांकि, अपने डॉक्टर के साथ विचार करने और योजना बनाने में कुछ चुनौतियां हैं। कुछ योजनाएं महत्वपूर्ण हैं, लेकिन मिर्गी से जुड़ी चुनौतियों का प्रबंधन करते हुए स्वस्थ गर्भावस्था भी संभव है। दौरे के संभावित प्रभाव और उन्हें नियंत्रित करने के लिए दी जाने वाली दवाएँ गर्भावस्था के दौरान अनोखी चिंताएँ पैदा करती हैं। हर साल मिर्गी से पीड़ित महिलाओं में लगभग 24,000 बच्चे पैदा होते हैं – जिनमें से अधिकांश स्वस्थ होते हैं।

कैसे मिर्गी गर्भावस्था को प्रभावित करती है ? 

गर्भावस्था के दौरान दौरे पड़ने पर निम्नलिखित समस्याओं का खतरा होता है:

  • भ्रूण की हृदय गति धीमी होना 
  • भ्रूण को ऑक्सीजन मिलना कम हो गया
  • अपरिपक्व प्रसूति
  • जन्म के समय कम वजन
  • समय से पहले जन्म
  • माँ को आघात, जैसे कि गिरना, जिससे भ्रूण को चोट लग सकती है, गर्भाशय से नाल का समय से पहले अलग होना (नाल का टूटना) या यहाँ तक कि भ्रूण की हानि भी हो सकती है

दौरे पर नियंत्रण बनाए रखना आवश्यक है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान दौरे के परिणामस्वरूप चोट लग सकती है और जटिलताओं की संभावना बढ़ सकती है। जटिलताएँ उत्पन्न होने की संभावना दौरे के प्रकार और आवृत्ति से जुड़ी होती है। फोकल दौरे में सामान्यीकृत दौरे जितना जोखिम नहीं होता है (लेकिन फोकल दौरे सामान्यीकृत हो सकते हैं)। सामान्यीकृत दौरे (विशेष रूप से टॉनिक-क्लोनिक वाले) माँ और बच्चे दोनों के लिए अधिक जोखिम रखते हैं।

 

क्या मिर्गी माँ से पैदा होने वाली संतान में जा सकती है ?

अगर माँ को मिर्गी की दिक्कत होगी और बाप को नहीं, तो तब भी १०० में से ५ खतरे का संकेत होगा। लेकिन दोनों को मिर्गी होनी बच्चे के लिए उच्च खतरा है। अक्सर बच्चे माता-पिता से मिर्गी विरासत में नहीं मिलेगी, लेकिन कुछ प्रकार की मिर्गी विरासत में मिलने की संभावना अधिक होती है।

लेबर और बच्चे की डिलीवरी के समय अगर दौरे शुरू हो जाए, इसे अंतःशिरा दवा से रोका जा सकता है। यदि दौरा लंबे समय तक रहता है, तो आपका स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता सी-सेक्शन द्वारा बच्चे को जन्म दे सकता है। ज्यादातर लोग जिनको मिर्गी की दिक्कत होती है बिना किसी समस्या के बच्चा आसानी से हो जाता है। हम महिलाओं से न्यूरल ट्यूब दोष के जोखिम को कम करने के लिए गर्भधारण से पहले फोलिक एसिड अनुपूरक लेने का आग्रह करते हैं, जो मस्तिष्क, रीढ़ और रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करते हैं। मिर्गी से पीड़ित महिलाओं को अन्य महिलाओं की तुलना में अधिक फोलिक एसिड लेने की आवश्यकता हो सकती है – गर्भधारण से पहले दो से तीन महीने तक प्रतिदिन 4 मिलीग्राम तक। ऐसा इसलिए है क्योंकि मिर्गी-रोधी दवाएं (एईडी) शरीर में फोलिक एसिड के स्तर को कम कर सकती हैं। आपके 20-सप्ताह के अल्ट्रासाउंड के दौरान, हम उन विकृतियों की तलाश करेंगे जो एईडी के कारण हो सकती हैं। यह परीक्षा न्यूरल ट्यूब दोषों की तलाश के लिए प्रभावी है।

मिर्गी और गर्भावस्था के जोखिमों को सुरक्षित रूप से कैसे प्रबंधित करें ?

  • याद से दवा- बूटी ली जाए 

अपनी पूरी गर्भावस्था के दौरान बताई गई दौरे-रोधी दवाएं (एएसएम) लेती रहें। इससे आपको और आपके बच्चे के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद मिलेगी।

  • महीने में सामान्य जांच 

अपनी मिर्गी देखभाल टीम के साथ अपने एएसएम की मासिक स्तर-जांच शेड्यूल करने और आवश्यकता पड़ने पर खुराक समायोजित करने की योजना बनाएं। गर्भावस्था से पहले के आधारभूत स्तर को बनाए रखने के लिए अधिकांश एएसएम को गर्भावस्था के दौरान खुराक बढ़ाने की आवश्यकता होगी।

  • नींद को अग्गे रखे 

नींद की कमी कई लोगों के लिए दौरे का एक सामान्य कारण है, चाहे वे गर्भवती हों या नहीं। एक सुसंगत नींद योजना बनाने के लिए अपनी देखभाल टीम के साथ काम करें।

  • अपने दौरे आने को ट्रैक करें 

अपनी जब्ती गतिविधि पर नज़र रखें। इसे अपनी गर्भावस्था और मिर्गी देखभाल टीमों के साथ अक्सर साझा करें। दौरे के मामूली लक्षण भी यह संकेत दे सकते हैं कि आपको दौरे पड़ने की संभावना बढ़ रही है।

Send Us A Message

    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
    back pain

    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

    • July 12, 2024

    • 37 Views

    Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
    Hindi

    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

    • July 8, 2024

    • 117 Views

    साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
    Hindi

    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

    • July 4, 2024

    • 376 Views

    पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

    सिर दर्द के प्रकार और घरेलु उपायों को जानकर हम कैसे इससे छुटकारा पा सकते है ?

    सिरदर्द एक आम बीमारी है जो हमारे दैनिक जीवन को बाधित कर सकती है। सिरदर्द के प्रकारों को समझना और सरल घरेलू उपचार अपनाने से दर्द और परेशानी को कम करने में मदद मिल सकती है। इस ब्लॉग में, हम विभिन्न प्रकार के सिरदर्द और प्रभावी घरेलू उपचारों का पता लगाएंगे, तो सिर दर्द से पाना है निजात तो लेख के साथ अंत तक बने रहें ;

    सिर दर्द के प्रकार क्या है ?

    तनाव वाला सिर दर्द –

    तनावग्रस्त सिरदर्द अक्सर तनाव और चिंता के कारण होता है। उनमें लगातार, हल्का दर्द महसूस होता है, जो आमतौर पर सिर के दोनों तरफ महसूस होता है।

    तनाव से होने वाले सिरदर्द को कम करने के लिए, व्यक्ति गहरी साँस लेने के व्यायाम और ध्यान जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास कर सकते है। ये गतिविधियाँ तनाव को कम करती है और मांसपेशियों को आराम देती है, जिससे सिरदर्द से राहत मिल सकती है।

    आधासीसी –

    माइग्रेन तीव्र होता है और अक्सर मतली, प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता जैसे लक्षणों के साथ होता है। वे आमतौर पर सिर के एक तरफ को प्रभावित करते है।

    घर पर माइग्रेन का प्रबंधन करने के लिए, व्यक्ति आराम करने के लिए एक शांत, अंधेरा कमरा ढूंढ सकते है, माथे पर ठंडा सेक लगा सकते है और मतली और सूजन को कम करने के लिए अदरक की चाय पी सकते है।

    क्लस्टर का सिर दर्द –

    क्लस्टर सिरदर्द अविश्वसनीय रूप से दर्दनाक होते है और कुछ हफ्तों या महीनों की अवधि में समूहों में होते है, जिसके बाद सिरदर्द-मुक्त अंतराल होता है।

    क्लस्टर सिरदर्द के दौरे के दौरान, शुद्ध ऑक्सीजन लेना फायदेमंद हो सकता है। ऑक्सीजन थेरेपी सिरदर्द की गंभीरता और अवधि को कम करने में मदद कर सकती है।

    क्लस्टर सिर दर्द से राहत पाने के लिए लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट से सलाह लें। 

    साइनस सिरदर्द –

    साइनस सिरदर्द साइनस संक्रमण और एलर्जी से जुड़ा हुआ है। वे माथे, गाल की हड्डियों और नाक में दर्द का कारण बनते है।

    साइनस सिरदर्द को कम करने के लिए, सेलाइन नेज़ल स्प्रे या नेति पॉट का उपयोग करने से जमाव को दूर करने और दबाव से राहत पाने में मदद मिल सकती है। साइनस सिरदर्द को कम करने के लिए भाप लेना एक और प्रभावी उपाय है।

    कैफीन निकासी सिरदर्द –

    कैफीन वापसी सिरदर्द अक्सर कैफीन सेवन में अचानक कमी से उत्पन्न होता है।

    इन सिरदर्द को कम करने के लिए, कैफीन का सेवन अचानक बंद करने के बजाय धीरे-धीरे कम करें। हाइड्रेटेड रहने और पर्याप्त नींद लेने से भी इन सिरदर्द की तीव्रता कम हो सकती है।

    निर्जलीकरण सिरदर्द –

    अपर्याप्त तरल पदार्थ के सेवन से निर्जलीकरण सिरदर्द उत्पन्न होता है, जिससे मस्तिष्क अस्थायी रूप से सिकुड़ जाता है।

    निर्जलीकरण सिरदर्द को रोकने और राहत देने के लिए, पूरे दिन खूब पानी पिएं और तरबूज और ककड़ी जैसे पानी से भरपूर फल और सब्जियां खाएं।

    सभी प्रकार के सिर-दर्द के लिए घरेलू उपचार क्या है ?

    जलयोजन : 

    विभिन्न प्रकार के सिर-दर्द को रोकने के लिए पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड रहना आवश्यक है। इसलिए दिन में कम से कम 8 गिलास पानी जरूर पियें।

    आराम : 

    पर्याप्त आराम और नींद सिर-दर्द के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती है।

    संतुलित आहार : 

    नियमित भोजन के साथ संतुलित आहार बनाए रखें। खाना छोड़ने से कुछ लोगों में सिर-दर्द हो सकता है।

    ठंडी सिकाई करें : 

    माथे पर ठंडी सिकाई करने से क्षेत्र को सुन्न करके और सूजन को कम करके त्वरित राहत मिल सकती है।

    पेपरमिंट ऑयल : 

    तनाव से होने वाले सिरदर्द को कम करने के लिए पेपरमिंट ऑयल को कनपटी पर ऊपर से लगाया जा सकता है।

    अदरक की चाय का सेवन करें : 

    अदरक में सूजनरोधी गुण होते है जो माइग्रेन के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते है।

    अरोमाथेरेपी : 

    लैवेंडर, पेपरमिंट, या नीलगिरी के आवश्यक तेलों की सुगंध सिरदर्द के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकती है।

    ट्रिगर से बचें : 

    व्यक्तिगत सिरदर्द ट्रिगर को पहचानें और उनसे बचें, जिसमें कुछ खाद्य पदार्थ, पेय या पर्यावरणीय कारक शामिल हो सकते है।

    इन खाने की चीजों को अपनाने के बाद भी आपको सिर दर्द की समस्या से राहत न मिले, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

    सिर दर्द की समस्या से बचाव के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

    अगर लगातार आप सिर दर्द की समस्या से परेशान है तो कृपया इसे नज़रअंदाज़ न करें बल्कि इसके इलाज के लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। इसके अलावा अगर आप सामान्य सिर दर्द से परेशान है तो इसके इलाज में घरेलु उपाय काफी मददगार होते है, बसर्ते की आपको इसके इलाज के लिए घरेलु उपायों को काफी अच्छे से फॉलो करना है पर उपायों को अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

    सारांश :

    सिरदर्द के प्रकारों को समझकर और सरल घरेलू उपचार अपनाकर, व्यक्ति सिरदर्द के दर्द को प्रभावी ढंग से प्रबंधित और कम कर सकते है। चाहे यह तनाव वाला सिरदर्द हो, माइग्रेन हो, या कोई अन्य प्रकार हो, विश्राम तकनीकों, उचित जलयोव जन और प्राकृतिक उपचारों का उपयोग दवा की आवश्यकता के बिना राहत लाने में मदद कर सकता है।

    Send Us A Message

      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
      back pain

      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

      • July 12, 2024

      • 37 Views

      Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
      Hindi

      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

      • July 8, 2024

      • 117 Views

      साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
      Hindi

      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

      • July 4, 2024

      • 376 Views

      पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

      Stroke: मस्तिष्काघात होने पर प्राथमिक चिकित्सा को कैसे ध्यान में रखें!

      मस्तिष्काघात जोकि हमारे दिमाग पर लगने वाली चोट की वजह से होती है, इसके कारण व्यक्ति को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वही मस्तिष्काघात होने पर हमे कौन-से प्राथमिक उपचार के बारे में पता होना चाहिए, इसके बारे में आज के आर्टिकल में चर्चा करेंगे तो अगर आप भी सामान्य चोट या किसी अन्य सिर दर्द की समस्या से परेशान है तो आर्टिकल के साथ अंत तक बने रहें ;

      क्या होता है मस्तिष्काघात ?

      • मस्तिष्काघात तब होता है जब सिर (चेहरे या गर्दन) या ऊपरी शरीर पर हल्की चोट लगने से मस्तिष्क की कार्यप्रणाली प्रभावित होती है। सिर को जोर से हिलाने से भी मस्तिष्काघात हो सकता है।  
      • आघात से मस्तिष्क की अस्थायी कार्यप्रणाली और वैकल्पिक मानसिक स्थिति का नुकसान होता है। यदि उपचार न किया जाए, तो यह पुरानी स्थिति शरीर व मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है।

      दिमागी जाँच या मस्तिष्काघात के बारे में जानने के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के पास जाना चाहिए।

      मस्तिष्काघात या आघात के लक्षण क्या है ?

      • भूलने की बीमारी या स्मृति हानि, जिसके परिणामस्वरूप उस घटना को भूल जाते हैं जिसके कारण मस्तिष्काघात हुआ था।
      • सिरदर्द की समस्या। 
      • मतली और उल्टी की समस्या। 
      • कानों में आवाज का आना। 
      • थकान और चक्कर आना। 
      • धुंधली दृष्टि या देखने में परेशानी आ आना। 
      • भ्रम की भावना का आना। 
      • बोलने में देरी की समस्या।     
      • चेतना का नुकसान होना। 
      • चिड़चिड़ापन और व्यक्तित्व में अन्य परिवर्तन का आना। 
      • नींद में परेशानी का सामना करना। 
      • चीजों को भूल जाना। 
      • प्रकाश या शोर संवेदनशीलता महसूस करना आदि।

      यदि आपके दिमाग पर गहरा आघात हुआ है जिसकी वजह से आपको सर्जरी का सहारा लेना पड़े तो इसके लिए आप लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन कर सकते है।

      मस्तिष्काघात या आघात के लिए कौन-सी प्राथमिक चिकित्सा का चयन करें ?

      • जब किसी को सिर में चोट लगती है, तो हमेशा मान लेना चाहिए कि इससे मस्तिष्काघात हो सकता है। क्युकि ऐसा मान लेना से आप स्थिति को संभालने में सफल साबित होंगे। 
      • इसके बाद आपको व्यक्ति को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाना चाहिए।
      • यदि आप आघात के वक़्त गंभीर लक्षण देखते है, तो तत्काल आपको चिकित्सा सहायता का चयन करना चाहिए। 
      • सुनिश्चित करें कि व्यक्ति सांस ले रहा है और उसे सांस लेने में कोई परेशानी नहीं हो रही है।
      • वे सामान्य व्यवहार कर सकते है जैसे की उन्हें चोट लगा ही न हो। 
      • पीड़ित को शराब न पीने दें।
      • चोट लगने के बाद रोगी का निरीक्षण करें क्योंकि लक्षण देर से दिखाई दे सकते है।

      मस्तिष्काघात होने पर डॉक्टर का चयन कब करना चाहिए ?

      • जब होश 30 सेकंड से अधिक समय न आए। 
      • तीव्र सिरदर्द जो समय के साथ बिगड़ जाता है। 
      • नाक या कान से खून बहना या तरल पदार्थ का निकलना। 
      • कानों में लगातार बजने जैसा कुछ सुनाई देना। 
      • देखने में परेशानी का सामना करना। 
      • भटकाव और भ्रम की समस्या आदि।

      मस्तिष्काघात के जोखिम कारक क्या है ?   

      • फ़ुटबॉल, बॉक्सिंग, रग्बी आदि जैसे उच्च जोखिम वाले खेल खेलते समय चोट का लगना।
      • सही सुरक्षा उपकरण के बिना खेलते जाना। 
      • शारीरिक शोषण का अनुभव करना या लड़ाई में शामिल होना। 
      • अगर आप कार दुर्घटना या मोटरसाइकिल दुर्घटना से ग्रस्त है। 
      • पिछला चिकित्सा इतिहास आघात के लिए महत्वपूर्ण है। 

      सुझाव :

      • अगर आपके सिर में गंभीर चोट लग गई है तो इससे बचाव के लिए आपको बिना समय गवाए न्यूरो सीटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। 

      निष्कर्ष :

      • लक्षण ज्यादा गंभीर होने पर खुद से प्राथमिक चिकित्सा करने से बचे और समय रहते जोखिम हुए व्यक्ति को डॉक्टर के पास ले जाए।

      Send Us A Message

        Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
        back pain

        Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

        • July 12, 2024

        • 37 Views

        Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

        क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
        Hindi

        क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

        • July 8, 2024

        • 117 Views

        साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

        क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
        Hindi

        क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

        • July 4, 2024

        • 376 Views

        पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

        इन पांच चीजों को खाने से आपके बच्चे का दिमाग घोड़े से भी तेज चलेगा !

        बच्चों का दिमाग तेज हो ऐसी चाहत हर माँ-बाप की होती है, और कही न कही इसके लिए वो काफी कुछ करते भी है ताकि उनके बच्चे का दिमाग तेज हो सकें, लेकिन आज के लेख में हम कुछ ऐसे खाने की चीजों के बारे में बताएंगे जिसको अपनाने मात्र से आपके बच्चे का दिमाग तेज हो सकता है, तो चलिए जानते है की वो ऐसे कौन-से उपाय है;

        कैसे बनाए बच्चों के दिमाग को तेज ?

        • बच्चों के दिमाग को तेज करने की शुरुआत हम उनके बचपन से ही कर सकते है और इसके लिए आपको उनके बचपन में वो सब चीजे शामिल करनी चाहिए जो उनको अच्छे से पोषण दे सकें और उनके दिमाग की शक्ति को बढ़ा सकें। 
        • इसके अलावा आप अपने बच्चे को प्रेरित करें की वो हर स्कूल की एक्टिविटी में शामिल हो। 
        • अपने बच्चे को कोशिश करें की वो ऑलराउंडर हो हर चीज में।  
        • बच्चे के दिमाग को तेज करने के लिए आप उनके साथ दिमागी खेल भी खेल सकते है जैसे, शतरंज आदि।

        आपका बच्चा मानसिक रूप से मजबूत बन सकें इसके लिए आपको चाहिए की आप लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट से सलाह लें।

        कौन-सी पांच चीजे खाने से बच्चे का दिमाग होगा घोड़े से भी तेज ?

        • सबसे पहले तो आप अंडे को बच्चे की डाइट में शामिल करें खास कर ग्रोइंग एज के बच्‍चों की डाइट में, ऐसा इसलिए क्युकी अंडे में मौजूद विटामिन्‍स, कैल्शियम, प्रोटीन ब्रेन डेवलपमेंट के लिए बहुत ही जरूरी है, वहीं जब बढ़ते बच्‍चों के‍ दिमाग को भरपूर विटामिंस मिलता है तो उनका दिमाग तेज से काम करने लगता है। 
        • अलसी और कद्दू के बीज को भी दिमाग के स्वास्थ्य के लिए बेहतरीन माना जाता है, कद्दू और अलसी के बीजों में जिंक के साथ ही मैग्नीशियम, विटामिन बी भरपूर मात्रा में होते है, जिससे मानसिक क्षमताएं विकसित होती है और बच्चों की याददाश्त में भी इजाफा होता है। 
        • रोजाना बच्चे को दही देना भी उसके अच्छे दिमाग के लिए काफी सहायक माना जाता है, इसलिए जरूरी है की आप अपने बच्चे के आहार में दही को जरूर शामिल करें। 
        • अगर आप मांसाहारी है तो अपने बच्चे की मेमोरी बढ़ाने के लिए उनको मछली का सेवन कराए, वहीं बचपन से हम और आप सुनते आ रहे है कि मछली खाने से दिमाग अच्‍छा होता है, दरअसल मछली में बहुत मात्रा में विटामिन डी और ओमेगा 3 होता है जो बढ़ते बच्‍चों के मेंटल डेवलपमेंट के लिए बहुत मददगार साबित होता है। 
        • अखरोट और अन्य ड्राई फ्रू्ट्स आपके दिमाग के लिए सुपर फूड माना जाता है, वहीं अखरोट अल्फा-लिनोलेनिक एसिड और पॉलीफेनोलिक कंपाउंड्स से भरपूर होता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड और पॉलीफेनोल्स दोनों को ही बेहद अहम ब्रेन फूड माना जाता है क्योंकि ये दोनों ऑक्सीडेटिव तनाव से लड़ने का काम करते है।
        • बचपन की अवस्था होती ही इतनी नाजुक है, और अक्सर इसी अवस्था में खेल कूद में बच्चों को चोट लग जाती है लेकिन कई बार चोट इतनी गंभीर होती है की उनके दिमाग पर गहरा असर छोड़ती है, जिससे उनका दिमाग तेज चलना बंद हो जाता है इसलिए बचपन की अवस्था में अपने बच्चे का खास ध्यान रखें और दिमागी चोट होने पर जल्द लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन के पास आए।

        सुझाव :

        अगर दिमागी चोट के कारण आपके बच्चे का दिमाग ठीक से नहीं चल पा रहा तो इसके लिए आप जल्द डॉक्टर के संपर्क में आए। और ऐसी दिमागी चोट के इलाज के लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। 

        निष्कर्ष :

        उम्मीद करते है की आपको पता चल गया होगा की आप किस तरह से अपने बच्चे का दिमाग तेज कर सकती है बस इसके लिए जरूरी है की आप उपरोक्त डाइट को फॉलो करें और समय-समय आप अपने बच्चे के दिमाग की जाँच को भी करवाते रहें ताकि उनके शरीर या दिमाग में किसी तरह की कोई परेशानी उत्पन्न न हो सकें।

        Send Us A Message

          Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
          back pain

          Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

          • July 12, 2024

          • 37 Views

          Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

          क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
          Hindi

          क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

          • July 8, 2024

          • 117 Views

          साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

          क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
          Hindi

          क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

          • July 4, 2024

          • 376 Views

          पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

          इस जांच की मदद से ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को पहचानना कैसे होगा और भी आसान ?

          ब्रेन स्ट्रोक की पहचान और रोकथाम एक महत्वपूर्ण चिकित्सा चुनौती हमेशा रही है। हालाँकि, नैदानिक परीक्षणों में हाल की सफलताओं ने स्ट्रोक के जोखिम का आकलन करने के तरीके में क्रांति ला दी है। अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करने वाला यह नया परीक्षण, स्ट्रोक जोखिम मूल्यांकन के परिदृश्य को नया आकार दे रहा है। तो आइये जानने की कोशिश करते है की आप ब्रेन स्ट्रोक का पता किस तरह की जांच को करवा कर लगा सकते है ;

          किस तरह की जाँच से ब्रेन स्ट्रोक का पता लगाया जा सकता है ?  

          • वर्तमान में, चिकित्सा पेशेवर किसी व्यक्ति के स्ट्रोक का अनुभव करने के जोखिम को निर्धारित करने के लिए विभिन्न परीक्षणों और मूल्यांकनों का उपयोग करते है। इन पारंपरिक तरीकों में “रक्त परीक्षण, इमेजिंग स्कैन और व्यक्तिगत जोखिम” कारकों का मूल्यांकन शामिल है। हालाँकि ये विधियाँ कुछ हद तक प्रभावी है, नया परीक्षण अधिक सटीक और व्यापक मूल्यांकन का वादा करते है।
          • नवोन्वेषी परीक्षण बायोमार्कर के विश्लेषण और एआई-संचालित एल्गोरिदम के उपयोग के सिद्धांतों पर संचालित होता है। रक्त या लार जैसे शारीरिक तरल पदार्थों में मौजूद विशिष्ट बायोमार्कर की जांच करके, परीक्षण स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम से जुड़े संभावित संकेतकों की पहचान कर सकते है। इन बायोमार्कर में प्रोटीन और आनुवंशिक कारक शामिल होते है जो सूजन, थक्के जमने की प्रवृत्ति और संवहनी स्वास्थ्य का संकेत देते है।
          • उन्नत एल्गोरिदम के उपयोग के माध्यम से, परीक्षण बड़ी मात्रा में डेटा को तेजी से और सटीक रूप से संसाधित कर सकता है। इन एल्गोरिदम को विभिन्न बायोमार्करों के बीच पैटर्न और सहसंबंधों को पहचानने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है, जिससे स्ट्रोक जोखिम मूल्यांकन की सटीकता बढ़ जाती है। नतीजतन, यह परीक्षण अधिक सूक्ष्म और विस्तृत विश्लेषण प्रदान कर सकता है, जिससे चिकित्सा पेशेवरों को स्ट्रोक की बेहतर भविष्यवाणी करने और रोकने में सक्षम बनाया जा सकता है।
          • इसके अलावा, परीक्षण की सरलता और गैर-आक्रामक प्रकृति इसकी अपील को बढ़ाते है। मरीज़ बिना किसी परेशानी या असुविधा के आसानी से आवश्यक नमूने प्रदान कर सकते है। परिणामों के त्वरित बदलाव का समय इसकी व्यावहारिकता को और बढ़ाता है, जिससे निवारक उपायों के संबंध में त्वरित निर्णय लेने की अनुमति मिलती है।
          • इस परीक्षण के निहितार्थ पर्याप्त हैं. पारंपरिक तरीकों की तुलना में स्ट्रोक के उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों की पहचान करने की इसकी क्षमता सक्रिय हस्तक्षेप की अनुमति देती है। प्रारंभिक पहचान चिकित्सा पेशेवरों को जीवनशैली में बदलाव, दवाएं या विशिष्ट हस्तक्षेप जैसे लक्षित निवारक उपायों को लागू करने में सक्षम बनाती है, जिससे स्ट्रोक होने की संभावना काफी कम हो जाती है।
          • इसके अलावा, नियमित जांच या स्वास्थ्य जांच में इस परीक्षण का एकीकरण सार्वजनिक स्वास्थ्य रणनीतियों में क्रांतिकारी बदलाव ला सकता है। यह स्वास्थ्य देखभाल के लिए अधिक वैयक्तिकृत दृष्टिकोण को सक्षम बनाता है, जहां व्यक्ति अपने विशिष्ट जोखिम प्रोफाइल के आधार पर अनुरूप हस्तक्षेप प्राप्त कर सकते है।
          • जैसे-जैसे चिकित्सा समुदाय इस परीक्षण को परिष्कृत और बेहतर बनाते जा रहें है, चल रहे अनुसंधान इसकी क्षमताओं का विस्तार करना चाहते है। भविष्य के पुनरावृत्तियों में अतिरिक्त बायोमार्कर शामिल हो सकते है और अधिक सटीकता के लिए एल्गोरिदम को परिष्कृत किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, पहनने योग्य प्रौद्योगिकी या स्मार्टफोन अनुप्रयोगों के साथ इस परीक्षण के एकीकरण का पता लगाया जा रहा है, जिससे संभावित स्ट्रोक जोखिमों के लिए वास्तविक समय की निगरानी और तत्काल अलर्ट की अनुमति मिल सके।
          • सरलता, सटीकता और व्यापक कार्यान्वयन की क्षमता इस परीक्षण को स्ट्रोक जोखिम मूल्यांकन में गेम-चेंजर बनाती है। इसमें निवारक स्वास्थ्य देखभाल के प्रति हमारे दृष्टिकोण को बदलने की क्षमता है, जिससे हमारा ध्यान प्रतिक्रियाशील उपचारों से हटकर सक्रिय, वैयक्तिकृत देखभाल पर केंद्रित हो जाता है।

          यदि आप स्ट्रोक की जाँच करवा कर उसका पता लगाना चाहते है, तो इसके लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

          ब्रेन स्ट्रोक की समस्या क्या है ?

          • जब मस्तिष्क में ब्लड की आपूर्ति (supply) बाधित हो जाती है या पूरी तरह से कम हो जाती है तो उस स्थिति को स्ट्रोक की समस्या कहते है। स्ट्रोक होने पर मस्तिष्क पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन और पोषक तत्व ग्रहण नहीं कर पाता है जिसके कारण मस्तिष्क की कोशिकाएं नष्ट होने लगती है। स्ट्रोक को ब्रेन अटैक भी कहा जाता है। 
          • यदि स्ट्रोक की समस्या का समय पर निदान और इलाज न किया जाये तो मस्तिष्क हमेशा के लिए डैमेज हो सकता है जिसके परिणामस्वरूप व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।

          तो अगर आप ब्रेन स्ट्रोक की समस्या या मौत के मुँह में जाने से खुद का बचाव करना चाहते है, तो इसके लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

          ब्रेन स्ट्रोक की जाँच के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

          जैसे की आपको पता ही चल गया होगा की ब्रेन स्ट्रोक की समस्या कितनी खतरनाक है, अगर समय पर इस समस्या का पता नहीं लगाया गया तो व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। वहीं इस समस्या का सामना आप या आपके कोई करीबी कर रहें है तो इसके लिए उन्हें न्यूरोसिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।

          निष्कर्ष : 

          इस सफल परीक्षण का विकास मस्तिष्क स्ट्रोक के जोखिम को पहचानने और कम करने की हमारी क्षमता को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाने के लिए तैयार है। बायोमार्कर और उन्नत एल्गोरिदम का लाभ उठाकर, यह परीक्षण मूल्यांकन का अधिक सटीक और कुशल तरीका प्रदान करते है। इसकी गैर-आक्रामक प्रकृति, त्वरित परिणामों के साथ मिलकर, इसे रोगियों और चिकित्सा चिकित्सकों दोनों के लिए एक व्यावहारिक उपकरण बनाती है। जैसे-जैसे अनुसंधान आगे बढ़ रहा है, नियमित स्वास्थ्य देखभाल प्रथाओं में इस परीक्षण का एकीकरण अनगिनत स्ट्रोक को रोकने का वादा करता है, जिससे जीवन की बचत होती है और समग्र सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार होता है।

          जैसे कि हम इस परीक्षण के निरंतर विकास और परिशोधन को देख रहे है, भविष्य में स्ट्रोक के जोखिम की शीघ्र पहचान और शमन के लिए महान संभावनाएं है, जो अंततः निवारक स्वास्थ्य देखभाल के परिदृश्य को बदल देते है।

          Send Us A Message

            Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
            back pain

            Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

            • July 12, 2024

            • 37 Views

            Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

            क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
            Hindi

            क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

            • July 8, 2024

            • 117 Views

            साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

            क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
            Hindi

            क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

            • July 4, 2024

            • 376 Views

            पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

            मानसून के मौसम में माइग्रेन की समस्या क्या है – जानिए इसके कारण, लक्षण, रोकथाम और इलाज !

            माइग्रेन जोकि खतरनाक वाला सिरदर्द है जो दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करता है। हालाँकि वे किसी भी समय हमला कर सकते है, लेकिन मानसून के मौसम के दौरान वे अक्सर अधिक प्रचलित हो जाते है और प्रबंधन करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है। इस ब्लॉग में, हम इस बरसात के मौसम में माइग्रेन के कारणों, लक्षणों, रोकथाम और उपचार के विकल्पों का पता लगाएंगे ;

            मानसूनी माइग्रेन के क्या कारण है ?

            • तापमान और वायुमंडलीय दबाव में अचानक बदलाव से संवेदनशील व्यक्तियों में माइग्रेन हो सकता है।
            • उच्च आर्द्रता के स्तर से निर्जलीकरण हो सकता है, जो एक ज्ञात माइग्रेन ट्रिगर है।
            • नमी की स्थिति के कारण फफूंद और पराग के स्तर में वृद्धि एलर्जी वाले लोगों में माइग्रेन को बढ़ा सकती है।
            • बादल छाए आसमान और मंद प्राकृतिक रोशनी लोगों को कृत्रिम रोशनी के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकती है, जो माइग्रेन को ट्रिगर कर सकती है।

            मानसूनी माइग्रेन के लक्षण क्या है ?

            • मानसून के मौसम में माइग्रेन के लक्षणों की पहचान करना समय पर हस्तक्षेप के लिए महत्वपूर्ण है। सामान्य माइग्रेन के लक्षणों में शामिल हैं:
            • गंभीर, धड़कता हुआ दर्द, जो अक्सर सिर के एक तरफ होता है।
            • माइग्रेन के कारण तीव्र मतली हो सकती है, जिससे कभी-कभी उल्टी भी हो सकती है।
            • प्रकाश (फोटोफोबिया) और ध्वनि (फोनोफोबिया) के प्रति बढ़ी हुई संवेदनशीलता सामान्य है।
            • कुछ व्यक्तियों को सिरदर्द शुरू होने से पहले दृश्य गड़बड़ी का अनुभव होता है, जैसे चमकती रोशनी या टेढ़ी-मेढ़ी रेखाएं।

            यदि माइग्रेन के लक्षण लगातार गंभीर होते जाए तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

            मानसूनी माइग्रेन के दौरान किस तरह के रोकथाम को अपनाएं!

            • हालाँकि आप मौसम को नियंत्रित नहीं कर सकते, लेकिन आप मानसून के मौसम में माइग्रेन को रोकने के लिए कदम उठा सकते है, जैसे –
            • निर्जलीकरण से निपटने के लिए खूब पानी पिएं, जो आर्द्र परिस्थितियों में माइग्रेन का एक आम कारण है।
            • तनाव को कम करने के लिए ध्यान और गहरी सांस लेने जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास करें, जो माइग्रेन को कम कर सकें।
            • नींद से संबंधित ट्रिगर्स को कम करने के लिए लगातार नींद का शेड्यूल बनाए रखें।
            • ऐसे खाद्य पदार्थों से बचें जो माइग्रेन को ट्रिगर कर सकते है, जैसे कैफीन, शराब, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और कृत्रिम योजक वाले खाद्य पदार्थ।
            • अपनी आँखों को तेज़ या टिमटिमाती रोशनी से बचाने के लिए धूप का चश्मा या चौड़ी किनारी वाली टोपी पहनें।
            • यदि आपको एलर्जी है, तो उचित प्रबंधन के लिए एंटीहिस्टामाइन लें या किसी एलर्जी विशेषज्ञ से परामर्श लें।

            यदि रोकथाम करने के बाद भी इसकी समस्या लगातार बढ़ते जाए तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

            मानसूनी माइग्रेन का इलाज क्या है ?

            जब मानसून के मौसम में माइग्रेन होता है, तो यह जानना आवश्यक है कि दर्द को कैसे कम किया जाए ;

            ओवर-द-काउंटर दवाएं लें : 

            इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन जैसी गैर-पर्ची दर्द निवारक दवाएं यदि निर्देशानुसार ली जाएं तो राहत मिल सकती है।

            प्रिस्क्रिप्शन दवाएं : 

            ट्रिप्टान या मतली-रोधी दवाओं जैसी मजबूत माइग्रेन-विशिष्ट दवाओं के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श लें।

            आराम और अंधेरा कमरा अपनाए : 

            संवेदी उत्तेजनाओं को कम करने के लिए एक शांत, अंधेरे कमरे में लेटें।

            ठंडी सिकाई करें : 

            दर्द को कम करने और सूजन को कम करने के लिए अपने माथे पर ठंडी सिकाई करें।

            जलयोजन : 

            हाइड्रेटेड रहने और मतली को कम करने के लिए पानी या हर्बल चाय पियें।

            कैफीन : 

            कुछ मामलों में, कैफीन की थोड़ी मात्रा माइग्रेन के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद कर सकती है। लेकिन इसकी कुछ ही मात्रा लें वो भी डॉक्टर के सलाह पर। 

            पेशेवर मदद : 

            क्रोनिक माइग्रेन या मानक उपचारों के प्रति प्रतिरोधी माइग्रेन के लिए, किसी न्यूरोलॉजिस्ट या सिर दर्द विशेषज्ञ से परामर्श लेने पर विचार करें।

            मानसूनी माइग्रेन की समस्या के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

            अगर आप मानसून के मौसम में आने वाले माइग्रेन की समस्या से खुद का बचाव करना चाहते है, तो इसके लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए, पर ध्यान रहें अगर अभी आपके माइग्रेन की शुरुआत हुई है तो आप इससे बहुत ही आसानी से खुद का बचाव कर सकते है, वो भी खुद का अच्छे से ध्यान रखकर। पर अगर स्थिति गंभीर हो जाए तो इसके लिए आप इस हॉस्पिटल के डॉक्टर का चयन कर सकते है। 

            निष्कर्ष :

            याद रखें कि जो एक व्यक्ति के लिए उपचार काम करता है वह दूसरे के लिए काम नहीं कर सकता है, इसलिए अपने अद्वितीय ट्रिगर्स की पहचान करना और इस बरसात के मौसम के दौरान माइग्रेन से निपटने के लिए एक व्यक्तिगत योजना विकसित करना आवश्यक है। उचित देखभाल और जागरूकता के साथ, आप माइग्रेन के प्रभाव को कम कर सकते है और मानसून के मौसम का पूरा लुफ्त उठा सकते है। 

            Send Us A Message

              Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
              back pain

              Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

              • July 12, 2024

              • 37 Views

              Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

              क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
              Hindi

              क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

              • July 8, 2024

              • 117 Views

              साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

              क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
              Hindi

              क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

              • July 4, 2024

              • 376 Views

              पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

              क्या है पार्किंसंस रोग की समस्या व इसके इलाज के लिए कौन-से हॉस्पिटल है बेहतरीन ?

              आज के समय में पार्किंसंस रोग एक ऐसी समस्या है, जिसमे शरीर का संतुलन बनाए रखने और अन्य शारीरिक गतिविधियां करने में व्यक्ति को समस्या का सामना करना पड़ता है। यह बढ़ती उम्र के साथ होने वाला रोग है, जिसे मृत्यु के सबसे अहम 15 कारणों की सूची में शामिल किया गया है। देखा जाए तो इस बीमारी के बारे में लोगों को ज्यादा मालूम नहीं है, इसलिए आज के लेख में हम पार्किंसंस रोग की समस्या से कैसे खुद का बचाव कर सकते है, और साथ ही ये समस्या है क्या ? इसके बारे में भी चर्चा करेंगे ;

              पार्किंसंस रोग क्या है ?

              • पार्किंसंस रोग केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का एक न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग है। इस बीमारी में दिमाग में डोपामाइन नामक रसायन का उत्पादन बंद हो जाता है, जिसके चलते शरीर का संतुलन बनाए रखने में समस्या होती है। साथ ही चलने में समस्या, शरीर में अकड़न व कंपन जैसी समस्याएं भी होने लगती है।
              • एक रिपोर्ट के अनुसार, पार्किंसन रोग 60 साल की उम्र के बाद होता है, लेकिन कुछ 5 से 10 प्रतिशत मामलों में यह 50 के आसपास भी हो सकता है। बताया जाता है कि पार्किंसंस रोग का जोखिम पुरुषों में महिलाओं के मुकाबले 50 प्रतिशत ज्यादा होता है। यह रोग आनुवंशिक भी हो सकता है, लेकिन ऐसा हर बार हो जरूरी नहीं है। 

              वहीं मुख्य रूप से इसके दो प्रकार होते है।

              • “प्राइमरी या इडियोपेथिक”, इसमें न्यूरोन्स के खत्म होने की वजह का पता नहीं होता।
              • “सेकंडरी या एक्वायर्ड”, में रोग का कारण पता होता है, जैसे ड्रग्स, संक्रमण, ट्यूमर, विषाक्ता आदि।
              • पार्किंसंस रोग की समस्या के शुरुआती दौर से बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

              पार्किंसंस रोग की समस्या का शिकार कौन लोग होते है ? 

              • इस बीमारी के होने और विकसित होने के लिए उम्र सबसे बड़ा जोखिम कारक है, ज्यादातर लोग जो इस बीमारी से पीड़ित है, उनकी उम्र 60 वर्ष या उससे अधिक है।
              • महिलाओं की तुलना में पुरुषों को यह बीमारी ज्यादा होती है।
              • कुछ प्रतिशत लोग आनुवंशिकता के कारण भी इस रोग की चपेट में आ सकते है।
              • सिर में चोट लगने या किसी बीमारी के कारण भी व्यक्ति पार्किंसंस रोग का शिकार हो सकता है।
              • फलों और सब्जियों पर कीटनाशक रसायनों का छिड़काव करने से भी इस बीमारी के होने का खतरा रहता है।

              पार्किंसंस रोग के कारण क्या है ? 

              • धूम्रपान का सेवन करना।
              • मोटापे की समस्या का सामना करना।
              • शारीरिक गतिविधियों में कमी का आना।
              • भोजन में अत्यधिक नमक का सेवन करना।
              • बढ़ती उम्र भी इसके प्रमुख कारण में शामिल है।
              • आनुवंशिकता भी इसके एक कारण में शामिल है।
              • शराब का सेवन करना।
              • तनाव और थायराइड की समस्या का सामना करना।
              • गुर्दे से जुड़ा पुराना रोग भी इसके कारण में शामिल है।

              पार्किंसंस रोग के लक्षण क्या है ?

              • शरीर के किसी भाग में कंपन का होना, खासकर हाथ में। 
              • मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या। 
              • शरीर को संतुलित रखने में समस्या का सामना करना। 
              • शारीरिक गतिविधियां, जैसे, चलना व करवट बदलने आदि में धीमेपन का आना। 
              • आवाज में नरमाहट का आना। 
              • आंखों को झपकाने में दिक्कत का सामना करना। 
              • खाना या पानी निगलने में समस्या का सामना करना। 
              • मूड स्विंग जैसे कि अवसाद आदि की समस्या। 
              • बार-बार नींद खुलने की समस्या का सामना करना। 
              • बेहोशी का छाना। 
              • शारीरिक संबंधों में कम रुचि रखना। 
              • आंत और मूत्राशय की गतिविधियों में गड़बड़ी का सामना करना। 
              • थकान महसूस करना। 
              • किसी भी कार्य में रुचि का कम होना। 
              • कब्ज की समस्या का सामना करना। 
              • कम या उच्च रक्तचाप की समस्या का होना।

              अगर आपके शरीर में गंभीर लक्षण नज़र आए और इन लक्षणों का उपचार सर्जरी के माध्यम से संभव हो तो इसके लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

              पार्किंसंस रोग के कितने स्टेज है ?

              इसके स्टेज को कुछ अनुभवी डॉक्टरों के द्वारा पांच भागों में विभाजित किया गया है, जैसे ;

              1. इसके पहले स्टेज में, पार्किंसंस सबसे हल्के रूप में होता है। आपको पहले स्टेज में कोई भी लक्षणों का अनुभव नहीं हो सकता है जो ध्यान देने योग्य है। यह भी हो सकता है कि वे अभी तक आपके दैनिक जीवन और कार्यों में न आए।
              2. दूसरे स्टेज में स्टेज 1 से स्टेज 2 तक की प्रगति में महीनों या साल का समय भी लग सकता है। हर व्यक्ति को दूसरी स्टेज में अलग अनुभव होते है। इस मध्यम स्तर पर, आप कुछ लक्षणों का अनुभव कर सकते है, जैसे –
              • मांसपेशियों में जकड़न की समस्या। 
              • झटके की समस्या। 
              • चेहरे के भावों में बदलाव का आना।
              • सब कुछ हिलता हुआ या धुंधला दिखाई देना। 
              1. तीसरे स्टेज, में व्यक्ति को पार्किंसंस के लक्षण महसूस होते है। जबकि आपको नए लक्षणों का अनुभव होने की संभावना नहीं है, वे अधिक ध्यान देने योग्य हो सकते है। वे आपके सभी दैनिक कार्यों को करने में भी बाधा डाल सकते है।
              2. चौथे स्टेज, में व्यक्ति को वॉकर या सहायक उपकरण के बिना खड़े होने में भी कठिनाई का अनुभव हो सकता है। इस दौरान व्यक्ति की प्रतिक्रियाएं और मांसपेशियों की गति भी काफी धीमी हो जाती है। इसलिए इस तरह के मरीज को अकेले नहीं छोड़ना चाहिए।
              3. पांचवे स्टेज, में जोकि यह आखिरी स्टेज है पार्किंसंस रोग का इसलिए इसमें मरीज को गंभीर लक्षण देखने को मिलते है। असंभव नहीं तो खड़ा होना मुश्किल होगा। एक व्हीलचेयर की आवश्यकता होने की संभावना होगी। इसके अलावा, इस स्तर पर, पार्किंसंस वाले व्यक्ति, भ्रम और मतिभ्रम का अनुभव कर सकते है। रोग की ये जटिलताएं बाद के चरणों में शुरू हो सकती है।

              पार्किंसंस रोग में क्या करें और क्या न करें ?

              क्या करें ; 

              • व्यायाम करें क्योंकि यह पार्किंसंस रोग से निपटने में काफी मदद कर सकता है।
              • सकारात्मक दृष्टिकोण, दृढ़ इच्छाशक्ति और दृढ़ संकल्प रखें।
              • यदि आवश्यक हो तो चलने की छड़ी का प्रयोग करें।
              • गर्म और ठंडे खाद्य पदार्थों का अलग-अलग सेवन करें।
              • फाइबर का सेवन बढ़ाएं।
              • शॉवर के अंदर शॉवर चेयर का इस्तेमाल करें।

              क्या न करें ;

              • परिस्थितियों के प्रति कठोर रहें।
              • यह मानना ​​बंद कर दें कि सब कुछ खराब है।
              • खुद को आइसोलेट रखें। 
              • बहुत अधिक मीठे खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ ना खाएं। 
              • बहुत अधिक सोडियम, ट्रांस वसा, कोलेस्ट्रॉल और संतृप्त वसा का सेवन करें। 
              • कुर्सी या बिस्तर से अचानक उठ खड़े हों।

              पार्किंसंस रोग के इलाज के लिए बेहतरीन हॉस्पिटल !

              पार्किंसंस रोग को नज़रअंदाज़ करना काफी खतरनाक हो सकता है आपके लिए, क्युकि इस रोग में व्यक्ति का ठीक से चल पाना काफी मुश्किल होता है और ऐसी समस्या में शरीर भी ठीक से कार्य करने में असमर्थ होता है। 

              अगर पार्किंसंस रोग के दौरान आपके लक्षण भी गंभीर नज़र आए तो इससे बचाव के लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। वहीं इस हॉस्पिटल का चयन इसलिए करना चाहिए क्युकि यहाँ पर अनुभवी डॉक्टरों के द्वारा मरीज़ों का इलाज आधुनिक उपकरण की मदद से किया जाता है।

              निष्कर्ष :

              पार्किंसंस रोग गंभीर समस्या है इसलिए इसके शुरुआती के लक्षण नज़र आने पर आपको इसके इलाज के लिए डॉक्टर का चयन करना चाहिए। और स्थिति ज्यादा न बिगड़े इसके लिए आपको समय-समय पर डॉक्टरों के द्वारा बताई गई दवाइयों का सेवन करते रहना चाहिए। और इस रोग में किसी भी तरह की दवाई का सेवन खुद से न करें।

              Send Us A Message

                Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                back pain

                Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                • July 12, 2024

                • 37 Views

                Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                Hindi

                क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                • July 8, 2024

                • 117 Views

                साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                Hindi

                क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                • July 4, 2024

                • 376 Views

                पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

                जानिए पुरुषों में कमर दर्द के हैरानीजनक कारण क्या हो सकते है ?

                कमर दर्द की समस्या चाहें हो पुरुष या हो महिला सब पर गलत और दर्दनाक असर छोड़ता है। वहीं कमर दर्द के मामलें अक्सर महिलाओं में देखने को मिलते है पर अगर इस समस्या का सामना पुरुष कर रहें हो तो कैसे हम उनके कारण, लक्षण और बचाव के तरीके जानकर उनकी रक्षा कर सकते है। तो अगर आप भी कमर दर्द की समस्या का सामना कर रहें है, तो इससे बचाव के लिए आपको लेख के साथ अंत तक बने रहना है ;

                क्या है पुरुषों में कमर दर्द की समस्या ?

                • कमर दर्द की समस्या का सामना पुरुष तब करते है, जब उनके द्वारा अपने सेहत का अच्छे से ध्यान नहीं रखा जाता है।  
                • शरीर में कमजोरी के कारण भी उनको इस तरह की समस्या का सामना करना पड़ता है। 
                • कमर में किसी तरह की चोट लगी है और उसको नज़र अंदाज़ करने से भी कमर दर्द की समस्या बढ़ जाती है।

                क्या कारण है पुरुषों में कमर दर्द के ?

                • पुरुषों में कमर दर्द के कारण बहुत हो सकते है, तो चलिए इसके एक-एक कारण के बारे में जानते है, तो इसके पहले कारण में रीढ़ की हड्डी में संक्रमण है, इसलिए शायद आपके कमर दर्द होता है। इसलिए रीढ़ की हड्डी के किसी भी तरह के संक्रमण को कृपया नज़रअंदाज़ न करें। 
                • गठिया या जोड़ो की सूजन, जिससे पीठ के निचे का हिस्सा प्रभावित होता है। बहुत से मामलों में गठिया रीढ़ की हड्डी के आसपास की जगह को संकुचित कर सकता है, जो दर्द का कारण बनते है।
                • ज्यादा वजन उठाने से या एकदम शरीर पर खिंचाव डालने से रीढ़ की हड्डी के स्नायुबंधन और पीठ की मांसपेशियों में खिंचाव आ सकते है। वहीं पीठ पर दबाव डालने से मांसपेशियों में दर्द होता है। जिसके कारण आपके कमर में दर्द की समस्या उत्पन्न हो जाती है।
                • रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर तंत्रिका पर दबाव पड़ने के कारण पीठ दर्द हो सकता है।
                • जिन पुरुषों को नींद संबंधी विकार होता है, उन्हें पीठ दर्द का अनुभव होने की संभावना बढ़ जाती है।
                • डिस्क के अंदर का नरम पदार्थ टूटने से तंत्रिका पर दबाव पड़ता है। डिस्क रीढ़ की हड्डी के बीच कुशन का काम करती है। जो उसे आराम देती है।
                • कुछ संक्रमण नसों को प्रभावित करते है, जिसके कारण भी आप कमर में दर्द की समस्या का सामना कर सकते है।

                पुरुषों को कमर दर्द से बचाव के लिए कौन-से घरेलू बातों का ध्यान रखना चाहिए !

                • अगर आप कमर दर्द की समस्या से बहुत ज्यादा परेशान है, तो इससे बचाव के लिए आपको गर्म और ठंडे हीटिंग पैड का चयन करना चाहिए, जिससे आपको कमर दर्द की समस्या से निजात मिल सकें।
                • अगर आपके कमर में दर्द बहुत ज्यादा है, तो ऐसे में आपको दर्द निवारक क्रीम को लगाना चाहिए।
                • कमर दर्द होने पर आपको योग, टहलना, व्यायाम, का सहारा लेना चाहिए।
                • अनुचित मुद्रा में काम करने के कारण भी आपको कमर दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए जरूरी है की अगर आप काफी देर से एक ही मुद्रा में बैठे है तो उसे बदले।
                • जो जूते फिट न हों और पैर, पीठ व गर्दन की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा कर रहे हो, तो उन्हें बदले। वहीं पैरों को सहारा देने वाले जूतों को आपको पहनना चाहिए।

                कमर दर्द के दौरान किस तरह के संकेत दिखाई देते है ! 

                • अगर पेट में और कमर में सूजन महसूस हो ये कमर दर्द के संकेत हो सकते है 
                • पुरुषों को कभी-कभी बुखार आने के कारण या गलत पोजीशन में सोने के कारण भी कमर दर्द हो सकता है। 
                • पेशाब में कठिनाई होने के कारण भी पुरुषों को कमर में दर्द हो सकता है। 
                • कमर में चोट लगने के कारण पुरुषों को कमर में दर्द महसूस हो सकता है। 
                • मलाशय में दर्द या किडनी से संबंधित समस्या होने पर भी पुरुषों को कमर में दर्द के संकेत दिख सकते है। 
                • इंफेक्शन के कारण पुरुषों को दर्द की शिकायत हो सकती है।
                • पुरुषों को रीढ़ की हड्डी में कोई विकार महसूस हो तब भी कमर में दर्द की समस्या हो सकती है। 
                • भारी वर्कआउट करने के कारण भी पुरुषों को दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

                पुरुषों में कमर दर्द का इलाज क्या है ?

                • कुछ दवाइयों का सेवन अक्सर डॉक्टर करने के लिए कहते है, जिससे मरीज़ को कमर दर्द की समस्या से आराम मिल सकें।
                • बोटॉक्स में ऐंठन आने पर मोच वाली मांसपेशियों को कमजोर बना दिया जाता है, जिससे दर्द को कम करने में मदद मिलती है। वहीं इस इंजेक्शन का असर 3 से 4 महीने तक रहता है। जिससे व्यक्ति को दर्द की समस्या से निजात मिल जाता है। 
                • कोर्टिसोन को रीढ़ की हड्डी के आसपास एपिड्यूरल स्पेस में लगाया जाता है। कोर्टिसोन तंत्रिका जड़ों के आसपास की सूजन को कम करता है। वहीं इंजेक्शन से दर्द पैदा करने वाले क्षेत्रों को सुन्न किया जाता है। वहीं आप चाहें तो लुधियाना में कमर दर्द का इलाज आसानी से करवा सकते है।

                सुझाव :

                कमर दर्द को नज़रअंदाज़ करना काफी बड़ी समस्या है इसको झुठलाया नहीं जा सकता है। लेकिन हां आप चाहें तो इस तरह की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है। इसके अलावा गंभीर कमर दर्द, या कमर पर चोट लगी हो तो आप इस समस्या का इलाज न्यूरो सिटी हॉस्पिटल से जरूर करवाए। 

                Send Us A Message

                  Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                  back pain

                  Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                  • July 12, 2024

                  • 37 Views

                  Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                  क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                  Hindi

                  क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                  • July 8, 2024

                  • 117 Views

                  साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                  क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                  Hindi

                  क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                  • July 4, 2024

                  • 376 Views

                  पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

                  सिर दर्द, चक्कर आने और घबराहट की समस्या को विशेषज्ञों की मदद से करें हल !

                  अगर सिर दर्द, चक्कर आने और घबराहट की समस्या आपकी भी रोजमर्रा की समस्या बन चुकी है, तो इससे घबराए न बल्कि इसके इलाज के लिए आपको किसी बेहतरीन न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर के पास जाना चाहिए। क्युकी इस तरह की समस्या से शिकार व्यक्ति अक्सर बेहतरीन मानसिक रोग विशेषज्ञ के सम्पर्क में आते है। तो चलिए जानते है की क्या है इस तरह की समस्या और इससे हम कैसे खुद का बचाव कर सकते है ;

                  सिर दर्द, चक्कर आने और घबराहट की समस्या व्यक्ति को क्यों अपना शिकार बनाती है ?

                  • ये तीनों समस्याएं आपस में इंटरकनेक्टेड है और ये सेहत का अच्छे से ध्यान न रखने की वजह से होता है।  
                  • वहीं सिर दर्द की बात करें, तो ये व्यक्ति को अपना शिकार तब बनाती है, जब व्यक्ति के द्वारा बहुत ज्यादा चिंता की जाती है। 
                  • चक्कर की समस्या भी इसी के कारण होती है, लेकिन जब हमारे द्वारा ढंग से खाना नहीं खाया जाता, तब भी व्यक्ति चक्कर आने जैसी समस्या का सामना कर सकता है। 
                  • जब व्यक्ति बिना किसी बात के घबरा जाता है या उसको किसी बात की चिंता होती है, तो भी वो घबराने जैसी समस्या का सामना कर सकता है। 

                  उपरोक्त में से किसी भी तरह की समस्या का अगर आप सामना कर रहें है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

                  सिर दर्द, चक्कर आने व घबराहट की समस्या से कैसे करें व्यक्ति खुद का बचाव ?

                  • अगर आप इन तीनों समस्याओं से निजात पाना चाहते है, तो इसके लिए सबसे पहले आपको किसी अनुभवी न्यूरोलॉजिस्ट के सम्पर्क में आना चाहिए। 
                  • और अगर आपको चक्कर आने जैसी समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो इससे बचाव के लिए आपको ताजा पानी पीना चाहिए, दिनभर जरूरी मात्रा में पानी पिएं.
                  • ब्लैक-टी पिएं, इसमें तुलसी और अदरक का उपयोग भी आप कर सकते है, चक्कर आने पर आप चॉकलेट खाएं, केला खाएं, आइसक्रीम खाएं, ड्राइफ्रूट्स खाएं दही और चीनी का सेवन भी आप ऐसे में कर सकते है। 
                  • यदि आप घबराहट और चक्कर आने की समस्या का सामना कर रही है, तो इससे बचाव के लिए आपको सुबह की पहली स्वच्छ हवा में टहलना चाहिए, जिससे आपके तनाव से लेकर सिर दर्द की समस्या से आपको निजात मिल सकें।

                  अगर आपका सिर दर्द या आपको चक्कर आने की समस्या का सामना किसी गंभीर चोट के कारण पड़ रहा है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन के सम्पर्क में आना चाहिए।

                  सिर दर्द, चक्कर आने व घबराहट की समस्या के इलाज का बेस्ट हॉस्पिटल !

                  अगर वाकई में आपको उपरोक्त समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो इससे बचाव के लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। वहीं इन समस्याओं के लिए कोशिश यहीं करें की आपको सर्जरी का सहारा न लेना पड़े।

                  सुझाव :

                  अगर आपके दिमाग या शरीर के किसी भी हिस्से में सामान्य सी भी समस्या आए तो इससे बचाव के लिए आपको डॉक्टर का सहारा लेना चाहिए और ध्यान रहें किसी भी तरह के उपाय को अपनाने से एक बार डॉक्टरी सलाह बहुत जरूरी है।

                  निष्कर्ष :

                  खुद का और अपने सेहत का अच्छे से ध्यान रखें ताकि किसी भी तरह की समस्या का आपको सामना न करना पड़े और सिर दर्द, चक्कर आने और घबराहट की समस्या से निजात पाने के लिए डॉक्टरी सलाह तो बहुत जरूरी है।

                  अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न :

                  बार-बार होने वाले गंभीर सिर दर्द के साथ चक्कर आने का क्या कारण हो सकता है?

                  इसके सटीक कारणों का पता लगाना थोड़ा मुश्किल है, तो वहीं कुछ डॉक्टरों का कहना है की अकसर व्यक्ति सिर दर्द के साथ चक्कर आने की समस्या का अनुभव तब करता है, जब वो बहुत ज्यादा तनाव में खुद को महसूस करता है।  

                  मैं सिर दर्द को चक्कर आने से कैसे अलग करूं?

                  इसको अलग करना ज्यादा मुश्किल नहीं बस इसके लिए आपको ज्यादा सोचना बंद करना होगा और तनाव से दुरी बनानी होगी। इसके अलावा स्थिति ज्यादा गंभीर होने पर आप डॉक्टर का सहारा भी लें सकते है।

                  दवा के बिना चिंता के कारण होने वाली मतली और चक्कर से छुटकारा पाने के कुछ तरीके क्या है ?

                  दवा के बिना तो किसी भी बीमारी का हल मिल पाना मुश्किल है, फिर चाहे आपकी बीमारी होती हो या बड़ी लेकिन हां अगर बीमारी की अभी शुरुआत हुई है, तो इसके लिए आप चॉकलेट खाएं, केला खाएं, ड्राइफ्रूट्स खाएं, दही-चीनी खाएं जिससे आप मतली और चक्कर आने की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है।

                  Send Us A Message

                    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                    back pain

                    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                    • July 12, 2024

                    • 37 Views

                    Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                    Hindi

                    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                    • July 8, 2024

                    • 117 Views

                    साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                    Hindi

                    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                    • July 4, 2024

                    • 376 Views

                    पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

                    मस्तिष्क पर चोट लगने के क्या है कारण, लक्षण, बचाव व उपाय ?

                    मस्तिष्क पर लगी चोट इंसान के दिमाग को पूरी तरह से हिला कर रख देती है, इसलिए जरूरी है की इंसान को कही भी आने, जाने के वक़्त बहुत सतर्कता बरतनी चाहिए। दिमाग पर लगी चोट से इंसान को और क्या नुकसान होते है इसके लक्षण क्या है, इसके कारण क्या है और इससे हम कैसे खुद का बचाव कर सकते है इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे ;

                    दिमाग की चोट के क्या कारण है ?

                    • दिमाग की चोट आम तौर पर बच्चों और बूढ़ों में देखने को मिलती है। 
                    • ब्रेन इंजरी के कारणों में रोड पर होने वाले एक्सीडेंट या किसी दीवार आदि पर सिर टकराना भी हो सकते है। 
                    • खेलते समय सिर पर आने वाली चोट, बॉक्सिंग, फुटबॉल और बेसबॉल के समय सिर पर मुक्का या बॉल लगना भी दिमागी चोट के कारणों में शामिल है।

                    दिमाग में चोट के गंभीर कारण होने पर जल्द लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन के संपर्क में आए।

                    क्या है सिर पर चोट का लगना ?

                    • सिर पर चोट लगने के कारणों की बात करें, तो इसमे हमारे द्वारा की गई लापरवाही नज़र आती है। 
                    • सिर पर लगी चोट इंसान को पागल बना देती है। 
                    • कई दफा तो ये चोट इंसान के मौत का कारण भी बन जाती है। 
                    • सिर पर चोट कई बार लग जाती है और हमे पता ही नहीं लगता, इसलिए जरूरी है की किसी भी तरह की चोट अगर इंसान को लग जाए तो उसे जल्द डॉक्टर के संपर्क में आना चाहिए।

                    अगर आपके दिमाग में हल्की सी चोट लगी है, तो इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के संपर्क में आए।

                    लक्षण क्या है दिमाग में चोट लगने के ?

                    सिर पर लगे चोट के लक्षणों की बात करें तो ये इंसान को चोट लगने के 48 घंटे बाद नज़र आती है, जैसे ; 

                    • सिर में दर्द की समस्या। 
                    • अत्यधिक मानसिक और शारीरिक थकान का मेहसूस होना। 
                    • पक्षाघात की समस्या। 
                    • कमजोरी का महसूस होना। 
                    • भूकंप के झटके का लगना। 
                    • चोरी की हुई चीज का बरामद होना, वो भी दिमागी तौर से ग्रस्त इंसान के पास।  
                    • प्रकाश की संवेदनशीलता का महसूस होना। 
                    • नींद संबंधी विकार का सामना करना आदि।

                    दिमाग पर लगें चोट से कैसे करें खुद का बचाव ? 

                    • गाड़ी चलाते समय सीट बेल्ट का प्रयोग करें।
                    • बाइक या साइकिल चलाते वक़्त हर समय हेलमेट जरूर पहनें।
                    • शराब पी कर ड्राइविंग बिलकुल न करें।
                    • ऐसे कार्पेट घर में न लाएं जिनसे आप फिसल कर नीचे गिर सकते है।
                    • गीले फ्लोर पर चलने से बचें।
                    • नियमित रूप से अपनी आंखों का चेक अप करवाते रहें।
                    • बाथरूम में जाते समय अपना खास ख्याल रखें।
                    • अगर नहाने के बाद कपड़े पहन रहे है, तो एक हाथ से किसी चीज को पकड़ लें ताकि फिसलने का रिस्क कम हो सके।

                    दिमागी चोट से बचाव के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

                    • अगर आपके दिमाग में गहरी चोट लग गई है तो इससे बचाव के लिए आपको फिजिकल और ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट की जरूरत होगी। 
                    • अगर आप इस तरह की थेरेपिस्ट का चयन करना चाहते है, तो इसके लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।  
                    • वहीं इस हॉस्पिटल में मरीज़ का इलाज आधुनिक उपकरणों की मदद से किया जाता है। 
                    • और तो और यहाँ के स्टाफ की बात करें तो उन्हे भी अपनी फील्ड का काफी सालों का अनुभव है।

                    सुझाव :

                    किसी भी तरह के नशीली चीजों का सेवन करके कृपया वाहन न चलाए, वर्ना चोट के साथ जान जानें का खतरा भी हो सकता है।

                    Send Us A Message

                      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
                      back pain

                      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

                      • July 12, 2024

                      • 37 Views

                      Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

                      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
                      Hindi

                      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

                      • July 8, 2024

                      • 117 Views

                      साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

                      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
                      Hindi

                      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

                      • July 4, 2024

                      • 376 Views

                      पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…