सावधानियों को ध्यान में रख कर हम ब्रेन स्ट्रोक की समस्या से कैसे बचे ?

आधुनिक जीवन की तेज़-तर्रार लय में, स्वास्थ्य अक्सर पीछे छूट जाता है। हालाँकि, हमारी भलाई की उपेक्षा करने से गंभीर परिणाम हो सकते है, जिनमें से सबसे खतरनाक मस्तिष्क स्ट्रोक का खतरा है। अच्छी खबर यह है कि सरल लेकिन प्रभावी सावधानियां अपनाने से इस जोखिम को काफी हद तक कम किया जा सकता है, तो जानते है की वह सावधानियां कौन-सी जो हमें ब्रेन स्ट्रोक के खतरे से बचा सकते है ; 

ब्रेन स्ट्रोक में किन सावधानियों का रखें ध्यान ?

  • सबसे पहले, स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखना मस्तिष्क स्ट्रोक को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नियमित व्यायाम, यहां तक कि दिन में 30 मिनट तक तेज चलना, रक्त परिसंचरण को बढ़ा सकता है और धमनियों को रुकावटों से मुक्त रख सकता है। व्यायाम वजन को नियंत्रित करने में भी मदद करता है, जो स्ट्रोक की रोकथाम में एक और महत्वपूर्ण कारक है। फलों, सब्जियों और साबुत अनाज से भरपूर संतुलित आहार आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते है जो समग्र हृदय स्वास्थ्य का समर्थन करते है।
  • रक्तचाप की निगरानी नियंत्रण सर्वोपरि है। उच्च रक्तचाप स्ट्रोक के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है, क्योंकि यह धमनियों पर अनावश्यक तनाव डालता है और उनके टूटने या रुकावट का कारण बन सकता है। नियमित जांच और निर्धारित दवाओं का पालन रक्तचाप को स्वस्थ सीमा के भीतर बनाए रखने में मदद कर सकता है।
  • इसी तरह, स्ट्रोक की रोकथाम के लिए कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रबंधित करना महत्वपूर्ण है। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर धमनियों में प्लाक के निर्माण में योगदान कर सकता है, जिससे रक्त प्रवाह का मार्ग संकीर्ण हो जाता है। कम वसा वाला आहार अपनाने और संतृप्त और ट्रांस वसा के अत्यधिक सेवन से बचने से कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने और स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

ब्रेन स्ट्रोक में और क्या सावधानियां बरतनी चाहिए, इसके बारे में जानने के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन जरूर से करना चाहिए।

स्ट्रोक की रोकथाम कैसे करें ?

  • स्ट्रोक की रोकथाम में धूम्रपान छोड़ना एक अपरिहार्य कदम है। धूम्रपान न केवल रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है बल्कि रक्त के थक्कों की संभावना को भी बढ़ा सकता है। इस आदत को छोड़कर, व्यक्ति अपने समग्र स्वास्थ्य में उल्लेखनीय रूप से सुधार करते है और स्ट्रोक के जोखिम को कम करते है।
  • शराब का सेवन नियंत्रित करना एक और बुद्धिमानी भरी सावधानी है। जबकि कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि मध्यम शराब के सेवन से हृदय संबंधी लाभ हो सकते है, अत्यधिक शराब पीने से उच्च रक्तचाप हो सकता है और स्ट्रोक का खतरा हो सकता है। इसलिए, यदि शराब पीएं तो उसका सीमित मात्रा में आनंद लेना महत्वपूर्ण है।
  • तनाव प्रबंधन को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है, लेकिन यह अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। दीर्घकालिक तनाव उच्च रक्तचाप और अन्य हृदय संबंधी समस्याओं में योगदान कर सकता है। सरल विश्राम तकनीकें जैसे गहरी सांस लेना, ध्यान करना या शौक में शामिल होना तनाव के स्तर को प्रभावी ढंग से प्रबंधित कर सकता है और स्ट्रोक की रोकथाम में योगदान कर सकता है।
  • नियमित स्वास्थ्य जांच सिर्फ तबियत के लिए नहीं होती जब आप अस्वस्थ महसूस करते है। नियमित जांच से संभावित स्वास्थ्य समस्याओं को बढ़ने से पहले पहचानने और उनका समाधान करने में मदद मिलती है। रक्त परीक्षण, कोलेस्ट्रॉल जांच, और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के साथ जीवनशैली विकल्पों के बारे में चर्चा व्यक्तिगत स्ट्रोक जोखिम में मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकती है और निवारक उपायों का मार्गदर्शन कर सकती है।

स्ट्रोक की रोकथाम के बाद भी अगर आपकी समस्या ठीक न हो तो इसके लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

ब्रेन स्ट्रोक ठीक होने में कितना समय लगता है ?

  • ब्रेन स्ट्रोक की समस्या में मस्तिष्क तक ब्लड की सप्लाई करने वाली धमनियों में ब्लॉकेज हो जाता है और इसकी वजह से ब्लड फ्लो अधित होता है। 
  • ब्लड फ्लो रुकने पर ब्लड जमने लगता है और इसकी वजह से धमनियों में दबाव भी बढ़ता है। इसके कारण धमनियों डैमेज हो जाती है और ब्लीडिंग शुरु हो जाती है। 
  • इसकी वजह से मस्तिष्क तक रक्त का संचार नहीं हो पाता है। रक्त के और पोषक तत्वों के संचार के बिना ब्रेन टिश्यू, साथ ही कोशिकाओं को भी गंभीर नुकसान पहुंचता है। इसके कारण ब्रेन डेड की स्थिति पैदा हो जाता है।
  • ब्रेन स्ट्रोक एक इमरजेंसी स्थिति है, इस स्थिति में मरीज को तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए। इस समस्या में जरा सी चूक जानलेवा हो सकती है। आमतौर पर ब्रेन स्ट्रोक से मरीज को ठीक होने में महीने भर लग जाते है। 
  • वहीं मरीजों में ब्रेन स्ट्रोक की गंभीरता के आधार पर इसका रिकवरी टाइम अलग-अलग हो सकता है।

ब्रेन स्ट्रोक के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल ?

ब्रेन स्ट्रोक की समस्या काफी खतरनाक मानी जाती है, तो अगर आप इस तरह की समस्या से निजात पाना चाहते है तो इसके लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन जरूर करना चाहिए।   

निष्कर्ष :

स्वस्थ और स्ट्रोक-मुक्त जीवन की इस यात्रा में रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर की निगरानी करना, धूम्रपान छोड़ना, शराब का सेवन कम करना और नियमित स्वास्थ्य जांच में भाग लेना आवश्यक कदम है। याद रखें, ये सरल सावधानियां आपका कल्याण कर सकती है, जो आपके और मस्तिष्क स्ट्रोक की संभावित तबाही के बीच खड़े है।

Send Us A Message

    Dr Vikesh Gupta Explains About Asthma & Its Treatments
    Neurologist

    Dr Vikesh Gupta Explains About Asthma & Its Treatments

    • May 15, 2024

    • 315 Views

    Asthma has become a common problem and can affect a person of…

    Expert Pulmonologist Dr. Vikesh Gupta Explains Bronchoscopy Surgery & Its Needs.
    Neurology

    Expert Pulmonologist Dr. Vikesh Gupta Explains Bronchoscopy Surgery & Its Needs.

    • May 6, 2024

    • 316 Views

    Bronchoscopy surgery is used for various reasons. In this video, Dr. Vikesh…

    बच्चों में होने वाली मिर्गी क्या उनको पूरे जीवन तंग करेगी ?
    Epilepsy

    बच्चों में होने वाली मिर्गी क्या उनको पूरे जीवन तंग करेगी ?

    • April 30, 2024

    • 1176 Views

    मिर्गी जीवन के किसी भी समय शुरू हो सकती है, लेकिन इसका…