What are the symptoms of Spinal surgery?

Spinal problems are very common in today’s world. Many people are suffering from spinal problems. There are many reasons that are responsible for the problem of spines. Majorly, senior citizens have spinal issues. Sometimes, accidents and falls can be a reason for injury or spinal issues. 

Definition of spinal problems

The Spinal problems are generated inside and outside of the spinal cord. The reason for the outer damage is compression and injury. It is compressed because of bone fracture, spinal degeneration and abnormalities. The hematoma, tumor, and herniated disc is also a reason for the weakening of the spinal cord. 

Define Spine surgery

Spine surgery is an operation. It includes an incision of the backbone. A special team of surgery doctors performs the surgery. In this surgery, doctors remove the muscle and soft tissue of the Spinal cord. The surgery procedure is performed under the effect of local anesthesia. The best spine surgeon in ludhiana performs the proper spinal surgery.

What are the symptoms of spine surgery? 

There are many symptoms of spinal problems 

  • Pain and discomfort

Patients experience joint pain in the area of the spinal cord. You may face issues in doing regular activities. You are not able to stand and walk properly. It also has an impact on your rest health. You may experience discomfort in moving and doing your work on your daily schedule.  

  • Stiffness and swelling

You are not able to do regular activities. You feel stiffness around your hip area. You may face cervical problems as your spinal cord is not strong. Your back became hard and swelled. 

Treatment for spinal problems

There are surgical and nonsurgical procedures for the treatment of spinal problems. 

Non-surgical procedure

  • Medicines: the medicines are suggested by the doctors at the early stage of the problem. At the initial stage, the spinal problem can be treated with medicinal therapy. Medicines are effective in curing spinal issues, and they give relief from pain for some time. For permanent solutions, there are other methods for the treatment of Spinal problems. ‘
  • Physical therapy: After an age, people need a physiotherapist to correct their muscle problems. Physical therapies can be beneficial for curing the problem of the spinal cord. Therapies fix the muscles and bones with any medicine and surgery. 
  • Surgery: At the last stage of spinal problems, doctors suggest surgery. In the surgery procedure, the damaged and affected part is removed with proper care, and an artificial part is placed at the place of the removing part. 

Some prevention after the spine surgery for back pain. 

In the time of recovery, we have to pay proper attention. There are several things you should take care of after the spinal surgery for back pain. 

  • Medicines: Take your medicines that are prescribed by the doctors. Surgeons prescribe painkillers after the surgery as they are working to anticipate the pain. 
  • Postoperatively: Some patients may experience difficulty passing urine postoperatively, in recovery after spinal surgery, but healthcare providers can address it with conservative measures.
  • Ambulation: Healthcare providers typically encourage patients to begin walking as early as the second day. Recommend promoting ambulation to facilitate a quicker recovery, even though pain may limit the process. Sue of a walker or brace may help.
  • Diet: Surgeons determine the diet based on the site and extent of the recovery after spinal surgery. Typically, patients can orally intake food within 6 hours of waking up after the procedure. The initial diet may comprise clear liquids and easily digestible foods. 
  • Wound Site: Ensuring proper surgical incision care is paramount to preventing complications, particularly infection. A meticulously managed postoperative wound care routine plays a crucial role in healing. The incision site is routinely dressed and carefully examined for any indications of infection, such as redness, swelling, or discharge. This vigilant monitoring allows healthcare professionals to detect potential issues promptly.

Nowadays, problems related to the back and spine are very common problems. The reason behind it is poor diet and poor posture. If you are suffering from any spinal and back problems, then contact the Neurociti hospital for the best back pain treatment in ludhiana

Send Us A Message

    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
    back pain

    Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

    • July 12, 2024

    • 38 Views

    Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
    Hindi

    क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

    • July 8, 2024

    • 117 Views

    साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
    Hindi

    क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

    • July 4, 2024

    • 377 Views

    पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

    Rehabilitation and Support for Spinal Cord Injury Patients

    A spinal cord injury can be a life-changing event, influencing both the physical and emotional prosperity of people. However, with the right clinical consideration, rehabilitation, and support, patients can recover their freedom and work to their personal satisfaction. In this blog post, we will investigate the significance of rehabilitation and the support accessible for spinal cord injury patients.

    Neuro Citihospital is a leading neuro hospital in Ludhiana that has some expertise in the determination, treatment, and rehabilitation of different neurological circumstances, including spinal cord wounds. Their group of gifted neurologists and medical services experts is committed to giving far-reaching care to patients and assisting them with exploring the difficulties related to spinal cord wounds.

    Figuring out Spinal Cord Wounds:

    A spinal cord injury happens when there is harm to the spinal cord, bringing about the deficiency of tactile and engine capability beneath the degree of injury. These wounds can be brought about by traumatic occurrences, like mishaps or falls, or non-traumatic causes like infections or tumors. The seriousness of the injury and the subsequent practical restrictions can shift broadly contingent upon the area and degree of the harm.

    Significance of Rehabilitation:

    Rehabilitation plays an imperative part in the recovery and long stretch of the leaders of spinal cord injury patients. The fundamental target of rehabilitation is to grow utilitarian opportunity and work on all-around private fulfillment. It incorporates a multidisciplinary approach that addresses the physical, mental, and profound pieces of recovery.

    Physical Rehabilitation: Physical rehabilitation centers around further developing portability, strength, and coordination. It incorporates workouts, physical therapy, and assistive gadgets like wheelchairs or supports. The point is to upgrade useful capacities and advance free living.

    Occupational Therapy: Occupational therapy centers around assisting patients with recovering abilities important for everyday exercises, like dressing, preparing, and cooking. Occupational specialists work intimately with patients to foster methodologies and adjust their current circumstances to work with freedom and efficiency.

    Psychological Support: Spinal cord wounds can mentally affect patients. It is fundamental for addressing profound prosperity and offering psychological help through the rehabilitation cycle. This might include directing, support gatherings, and mediations to oversee tension, discouragement, or post-traumatic pressure issue.

    Neuro Citihospital: Your Accomplice in Spinal Cord Injury Rehabilitation

    Neuro Citihospital, a legitimate neuro hospital, comprehends the extraordinary difficulties looked at by spinal cord injury patients. Their group of devoted neurologists, specialists, and support staff works cooperatively to give customized care and support all through the rehabilitation venture. If you’re looking for an expert neurologist in Ludhiana, look no further than the expertise and humane consideration offered by Neuro Citihospital. With cutting-edge offices and a patient-focused approach, they endeavor to engage patients and upgrade their recuperation results.

    Conclusion

    Spinal cord wounds can be destructive, however, with the right clinical consideration, rehabilitation, and support, patients can recapture freedom and lead satisfying lives. Neuro Citihospital, a leading neuro hospital in Ludhiana, is focused on giving extensive consideration and rehabilitation services to spinal cord injury patients. If you or somebody you know is needing particular neuro care, make it a point to out and investigate the assets accessible for a fruitful recuperation.

    Send Us A Message

      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
      back pain

      Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

      • July 12, 2024

      • 38 Views

      Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
      Hindi

      क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

      • July 8, 2024

      • 117 Views

      साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
      Hindi

      क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

      • July 4, 2024

      • 377 Views

      पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

      जानिए रीढ़ की हड्डी को कैसे मस्तिष्क संबंधी विकार के साथ जोड़ा जा सकता है ?

      रीढ़ की हड्डी की बात करें तो इसका सीधा संबंध हमारे दिमाग के साथ होता है, वहीं ये हड्डी बहुत सारी कोशिकाओं की मदद से आपके दिमाग तक बहुत सारे विचारों का आदान-प्रदान भी करती है। तो रीढ़ की हड्डी हमारे दिमाग के साथ क्या भूमिका निभाती है, इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे ;

      रीढ़ की हड्डी का दिमाग के साथ कैसे घनिष्ठ संबंध है !

      • रीढ़ के हड्डी की बात करें तो इसका संबंध हमारे दिमाग के साथ सीधा होता है, क्युकी रीढ़ की हड्डी में भी छोटा सा दिमाग होता है जो हमे किसी भी जगह पर गिरने से बचाता है। 
      • मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी आपके शरीर का केंद्रीय तंत्रिका तंत्र है। मस्तिष्क आपके शरीर के लिए कमांड सेंटर है, और रीढ़ की हड्डी मस्तिष्क द्वारा शरीर को और शरीर से मस्तिष्क तक भेजे गए संदेशों का एक मार्ग है।
      • मानव मस्तिष्क की तरह ही रीढ़ की हड्डी में भी तीन भाग होते है। इसे हम छोटे-छोटे पतले पर्दे के रूप में देख पाते है। मतलब बहुत कुछ एक समान होता है रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क में। 
      • इसके अलावा कई दफा आपने देखा भी होगा कि कुछ लोगों को रीढ़ की हड्डी में चोट लग जाती है जिसकी वजह से वो ठीक से बोल नहीं पाते या बोलना कुछ चाहते है और मुंह से आवाज कुछ और ही निकल जाती है। 

      रीढ़ की हड्डी का दिमाग के साथ संबंध कैसे होता है इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

      रीढ़ की हड्डी को स्वास्थ्य रखने के लिए किन बातों का ध्यान रखें ? 

      • रीढ़ की हड्डी को मजबूत रखने के लिए हरी सब्जियों का सेवन करें। 
      • रीढ़ की हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखने के लिए बेरीज (गोल, मुलायम, रस और छोटे फल है जो नीले, लाल, बैंगनी रंगो का समूह है) का सेवन करें, बेरीज में कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स होते है, जो रीढ़ को मजबूत और स्वस्थ रखने में असरदार हो सकते है। 
      • रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने के लिए आप फिश ऑयल का सेवन भी कर सकते है, क्युकि फिश ऑयल में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो आपकी नसों को सुरक्षित रख सकता है, साथ ही यह विटामिन-डी का भी अच्छा स्त्रोत माना जाता है, जो आपकी हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है।
      • नट्स का सेवन करके भी आप अपनी रीढ़ की हड्डी को मजबूती प्रदान कर सकते है। 
      • इसके अलावा आप रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने के लिए उसे भरपूर आराम दे, क्युकी पूरे दिन के काम के बाद इसे भी आराम की जरूरत होती है, इसलिए जरूरी है की आप रीढ़ को आराम देने के लिए अच्छे गद्दे और तकिए का इस्तेमाल करें। 
      • रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाने के लिए नियमित रूप से कोर एक्सरसाइज या जिसे कोर स्ट्रेंथनिंग और टोनिंग एक्सरसाइज भी कहा जाता है, इसे जरूर करें।
      • रीढ़ की हड्डी को मजबूती देने के लिए अच्छे किस्म के जूतों को पहने ताकि आपको चलने के दौरान किसी परेशानी का सामना न करना पड़े और आपकी रीढ़ की हड्डी भी सुरक्षित रहें। 
      • नियमित रूप से पीठ की मालिश कराएं, ताकि आपको पीठ या रीढ़ की हड्डी में दर्द का अनुभव न हो। 
      • लंबे समय तक एक पोजीशन में न बैठें, क्युकी अगर आप ऐसा करते है तो आपको रीढ़ की हड्डी में दर्द का सामना करना पड़ सकता है। 

      इन रीढ़ की हड्डी के बचाव के तरीको को तो आपको जरूर करने चाहिए, लेकिन इन सबके करने के बाद भी आपको कोई फर्क नज़र न आए तो इसके लिए आप लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन से जरूर सलाह लें।

      रीढ़ की हड्डी के बचाव के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

      अगर आप वाकई अपने रीढ़ की हड्डी को स्वास्थ्य रखना चाहते है तो इसके लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल के सम्पर्क में आना चाहिए और किसी भी तरह की परेशानी होने पर यहाँ के डॉक्टर या न्यूरोलॉजिस्ट से जरूर सलाह लें। 

       

      Send Us A Message

        Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
        back pain

        Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

        • July 12, 2024

        • 38 Views

        Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

        क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
        Hindi

        क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

        • July 8, 2024

        • 117 Views

        साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

        क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
        Hindi

        क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

        • July 4, 2024

        • 377 Views

        पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

        जानिए रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर के क्या है प्रकार, लक्षण, निदान और उपचार ?

        रीढ़ की हड्डी का कैंसर व्यक्ति में तब बनता है जब रीढ़ की हड्डी के ऊतकों में तरल पदार्थ या तंत्रिकाओं में असामान्य रूप से कोशिकाएं बढ़ने लगती है। वहीं रीढ़ की हड्डी का कैंसर काफी खतरनाक माना जाता है क्युकि रीढ़ के बल पर ही हमारा सम्पूर्ण शरीर खड़ा होता है। इसके अलावा ये कैंसर किन कारणों से व्यक्ति में होते है और इनसे हम कैसे खुद का बचाव कर सकते है इसके बारे में संपूर्ण लेख में चर्चा करेंगे ;

        किन कारणों से रीढ़ की हड्डी का कैंसर होता है ?

        • रीढ़ की हड्डी में कैंसर के कारणों की बात करें तो इस पर कुछ अनुभवी डॉक्टरों का कहना है कि इसके कारण स्पष्ट नहीं है। 
        • इसके अलावा कुछ डॉक्टरों का ये भी कहना है की जब व्यक्ति अधिक धूम्रपान का सेवन कर लेते है तो भी उनमे इस तरह की समस्या नज़र आ सकती है।
        • शराब का सेवन करने वाले भी रीढ़ की हड्डी के कैंसर से ग्रस्त हो सकते है।
        • अत्यधिक मोटापा भी रीढ़ के कैंसर की वजह है।  

        आपमें कैंसर किन कारणों से होता है इसके बारे में जानने के लिए आप लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के संपर्क में आ सकते है।

         

        रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर के प्रकार क्या है ?

        • प्राथमिक स्पाइनल ट्यूमर, रीढ़ की हड्डी के भीतर हड्डियों, डिस्क, तंत्रिकाओं या अन्य तत्वों में विकसित होकर रीढ़ की हड्डी में उत्पन्न होता है। 
        • माध्यमिक रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर, शरीर में कहीं और शुरू हुए कैंसर से रीढ़ तक फैल जाते है। 
        • रीढ़ की हड्डी के ट्यूमर को स्पाइनल कोड के अंदर या बाहर उनके स्थान के आधार पर भी वर्गीकृत किया जा सकता है।
        • एक्स्ट्राड्यूरल एक स्पाइनल ट्यूमर जो रीढ़ की हड्डी की सबसे बाहरी सुरक्षात्मक परत के बाहर बनता है। 
        • इंट्रामेडुलरी में ट्यूमर रीढ़ की हड्डी के अंदर बढ़ता है और उनकी कोशिकाओं से उत्पन्न होता है। 

        अगर आप भी इन में से किसी भी तरह के ट्यूमर की समस्या से ग्रस्त है तो इसके लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन के पास आना चाहिए।

         

        क्या है रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर ?

        स्पाइनल ट्यूमर को रीढ़ बनाने वाले किसी भी ऊतक से उत्पन्न होने वाली असामान्य वृद्धि के रूप में परिभाषित किया गया है। रीढ़ की हड्डी के ट्यूमर खतरनाक या सौम्य [गैर-कैंसरयुक्त] हो सकते है। जैसे-जैसे रीढ़ के ट्यूमर बढ़ते है, वे रीढ़ की हड्डी पर दबाव डाल सकते है।

        रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर शरीर के किस हिस्से में बनता है ! 

        • उपास्थि जो कशेरुकाओं में जोड़ों की रक्षा करती है। 
        • परिधीय तंत्रिकाएं भी आपके शरीर में रीढ़ की हड्डी के ट्यूमर को बनाती है।  
        • स्पाइनल डिस्क में। 
        • मेरुदंड (रीढ़ की हड्डी) में कैंसर।

        रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर के लक्षण क्या है ?

        • ऊपरी या मध्य दर्द का होना। 
        • तीव्र या रह-रह कर बनने वाला दर्द। 
        • रीढ़ की हड्डी में गहरे दर्द की समस्या। 
        • रात में दर्द का बढ़ना। 
        • मांसपेशियों में कमजोरी का आना आदि।

        रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर का उपचार कैसे किया जाता है ? 

        • कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाओं का प्रशासन करना।
        • रीढ़ की हड्डी की कोशिकाओं को हटाना या प्रत्यारोपित करना वो भी सर्जरी की मदद से।
        • भारी धातुओं से निकलने वाले विकिरणों से कैंसर कोशिकाओं का उपचार करना।
        • कीमोथेरेपी की मदद से इसका इलाज करना।

        रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर का निदान क्या है ?

        • इसके निदान में, एक्स-रे। 
        • सीटी स्कैन। 
        • चुम्बकीय अनुनाद इमेजिंग स्कैन। 
        • बोन स्कैन। 
        • मचान का स्कैन। 
        • बायोप्सी आदि शामिल है।

        रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर के उपचार के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

        अगर आप रीढ़ की हड्डी में कैंसर की समस्या से बहुत ज्यादा परेशान है, तो इससे निजात पाने के लिए आपको न्यूरो सीटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। वहीं आपको बता दे की इस हॉस्पिटल में उपचार व सर्जरी आधुनिक उपकरणों की मदद से किया जाता है।

        Send Us A Message

          Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
          back pain

          Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

          • July 12, 2024

          • 38 Views

          Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

          क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
          Hindi

          क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

          • July 8, 2024

          • 117 Views

          साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

          क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
          Hindi

          क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

          • July 4, 2024

          • 377 Views

          पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

          Herniated disc: हर्नियेटेड डिस्क के लक्षण और घरेलू उपचार

          हर्नियेटेड डिस्क एक ऐसी समस्या है जिसमें किसी डिस्क का मध्य भाग टूट जाता है और उससे नर्व पेशियों पर दबाव पड़ता है। यह स्थिति दर्द, संशोधन और संयम अपनाने के लिए बहुत असहजता पैदा कर सकती है। घरेलू उपचार और निकटतम न्यूरोलॉजिस्ट के साथ मिलकर आप अपने स्वास्थ्य को सुधार सकते हैं और स्वस्थ जीवनशैली का आनंद ले सकते हैं।

          किसी भी रोग या समस्या का समय पर निदान और उपचार महत्वपूर्ण होता है। हर्नियेटेड डिस्क एक ऐसी समस्या है जिसे जल्दी से पहचानना और इलाज करना आवश्यक होता है। इस ब्लॉग में, हम हर्नियेटेड डिस्क के लक्षणों के बारे में चर्चा करेंगे और इस समस्या के लिए घरेलू उपचार की जानकारी प्रदान करेंगे। इसके साथ ही, हम बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट लुधियाना की विशेषता को भी देखेंगे जो इस समस्या के उपचार में आपको सही दिशा में आगे बढ़ाने के लिए सहायता कर सकते हैं।

          हर्नियेटेड डिस्क के लक्षण: हर्नियेटेड डिस्क के लक्षण व्यक्ति के अनुभव और स्थिति पर निर्भर करते हैं। कुछ लोगों को इस समस्या के लक्षणों का अनुभव हो सकता है जैसे कि निंद्रा, पैरों में झनझनाहट, स्नायु दर्द, पीठ दर्द, स्नायुमंडली में सुस्ती, और पैरों की कमजोरी। इन लक्षणों को नजरअंदाज करें और अपने निकटतम न्यूरोलॉजिस्ट से संपर्क करें ताकि सही निदान और उपचार की सुझावित जांच कराएं।

          घरेलू उपचार: अपने घरेलू मार्गदर्शक की मदद से आप कुछ घरेलू उपचार का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो हर्नियेटेड डिस्क के लक्षणों को कम करने और आराम प्रदान करने में मदद कर सकते हैं।

          योगासन, ध्यान, नियमित व्यायाम, सही बैठने और खड़े होने के तरीके, स्नायु शक्ति को बढ़ाने वाले आहार, और घरेलू उपचारों का उपयोग करके आप अपने डिस्क के स्वास्थ्य को सुधार सकते हैं। हालांकि, घरेलू उपचार के बावजूद, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने निकटतम न्यूरोलॉजिस्ट की सलाह लें और उपचार योजना का पालन करें।

          बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट: हर्नियेटेड डिस्क के उपचार में सही निदान और संयम अत्यंत महत्वपूर्ण होते हैं। बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट आपके स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए पेशेवर होते हैं और आपको सही दिशा में आगे बढ़ने में मदद करते हैं। वे आपके लक्षणों का मूल्यांकन करेंगे, आपके मामले का निदान करेंगे और आपको संभावित उपचार योजना के बारे में सलाह देंगे। उनका व्यापक अनुभव और विशेषज्ञता हर्नियेटेड डिस्क समस्या के उपचार में आपको आत्मविश्वास देगी और आपके स्वास्थ्य को सुधारने के लिए सही मार्ग प्रदान करेगी।

          संयोजन और समाप्ति:

          हर्नियेटेड डिस्क एक आम समस्या हो सकती है, लेकिन इसका सही इलाज आपको दर्द से राहत और स्वास्थ्यपूर्ण जीवन की ओर आगे बढ़ा सकता है। आशा करते हैं कि यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण और सहायक साबित होगी।

          इसके अलावा, हम आपको सलाह देते हैं कि अपने निकटतम न्यूरोलॉजिस्ट से परामर्श लें और उनके द्वारा सुझाई गई उपचार योजना का पालन करें। इससे आपको समस्या के समाधान में मदद मिलेगी और आपका स्वास्थ्य सुधारेगा। इसलिए, यदि आप हर्नियेटेड डिस्क के लक्षणों का सामना कर रहे हैं, तो जल्द से जल्द एक न्यूरोलॉजिस्ट की सलाह लें और उपचार के लिए कदम उठाएं।

          याद रखें, आपका स्वास्थ्य महत्वपूर्ण है और आपको उच्च गुणवत्ता वाली देखभाल प्राप्त करनी चाहिए। Neurociti Hospital आपके न्यूरोलॉजी और माइंड केयर की सेवा करने के लिए एक प्रमुख स्वास्थ्य संस्थान है।

          Send Us A Message

            Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
            back pain

            Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

            • July 12, 2024

            • 38 Views

            Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

            क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
            Hindi

            क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

            • July 8, 2024

            • 117 Views

            साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

            क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
            Hindi

            क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

            • July 4, 2024

            • 377 Views

            पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…

            Everything you need to know about the spinal cord disorder treatment

            Spinal Cord Disorder

            Punjab: Spinal Cord Disorder is one of the medical conditions which includes damage or negative impact on spinal cord health. Several conditions can make the situation worse like:

            • Spinal stenosis
            • Herniated disc
            • Abscess
            • Hematoma
            • Vertebral fractures
            • Degenerative disc disease
            • Tumor

            No matter what, the Spinal Cord Injury Treatment in Ludhiana has to be started on time so that the situation does not get worse in the coming years or there is something more problematic.

            Spinal cord disorder can occur in different areas

            The spinal cord contains different nerves which go all the way to the brain & present at the back. One of its essential functions is to set the message to all the body parts from the brain. It has 4 different parts and if any of the ones get affected there are high chances of getting a spinal cord disorder. The 4 key areas are:

            • Cervical (neck)
            • Lumbar (upper back region)
            • Thoracic (lower back region)
            • Sacral (pelvis)

            If you have the problem then better get yourself medical assistance by scheduling your initial consultation at one of the known Neuro Hospital in Ludhiana.

            Which are the major signs & symptoms of spinal cord disorder?

            Here are some of the triggering signs & symptoms of spinal cord disorder:

            • Sensation begin to loss
            • Paralysis or weakness of limbs
            • Reflex changes
            • Uncontrolled muscle spasms
            • Back pain gets severe
            • Bowel or urinary control is not right

            What are the causes of spinal cord disorder?

            There are high chances that the problem can be present on the inside or outside. Both the situations are mentioned below:

            • Spinal cord damage from the outside

            This situation triggers spinal cord compression or injury. The problem may be due to several issues like spinal degeneration, a bone fracture which will include the herniated disk tumor, and hematoma.

            • Spinal cord damage from the inside

            In case the spinal cord damage is from the inside then the problem is likely to occur due to different factors like:

            • Syphilis
            • Multiple sclerosis
            • Autoimmune diseases
            • Vitamin deficiency
            • Blood supply blockage
            • Fluid-filled cavities

            How is the spinal cord disorder diagnosis done?

            The proper careful examination must be done before starting the treatment plan. Apart from that, there are many other diagnostic tests that can be performed to better understand the entire situation like:

            • X-rays are done to have a better check at the tumor or fracture
            • Spine CT or Spine MRI is done which helps in better checking the spinal cord pressure
            • Myelography is done to check the location & what all sorts of abnormalities are present in the spinal cord
            • An electromyogram is done which helps in checking which nerve root is there

            How to treat spinal cord disorder?

            The spinal cord disorder treatment depends on what’s the location & how severe the problem is. It’s essential to better check the entire situation & understand all the complications. Some of the treatment options which are included for the spinal cord disorder are:

            • Activity modification
            • Occupational or physical therapy
            • Surgery if the condition demands
            • Medications are given which helps to better control the situation like pain, bladder dysfunction & bowel problems, muscle spasticity, pain, and other issues.

            Send Us A Message

              Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips
              back pain

              Restore Your Back Flexibility Through Healthy Tips

              • July 12, 2024

              • 38 Views

              Countless people in the world suffer from back pain. It is a…

              क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति
              Hindi

              क्या आपको भी हो रही है साँस लेने में तकलीफ, जानिए एक्सपर्ट्स से कैसे पाएं इस समस्या से मुक्ति

              • July 8, 2024

              • 117 Views

              साँस लेने में तकलीफ होना इस समस्या से पीड़ित मरीज़ के लिए…

              क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार
              Hindi

              क्यों हो रहे है अल्जामइर-स्ट्रोक जैसी न्यूरोलॉजिकल बीमारियों से लोग शिकार

              • July 4, 2024

              • 377 Views

              पिछले एक दशक से वैश्विक स्तर पर कई तरह के क्रोनिक बीमारियों…