मस्तिष्क पर चोट लगने के क्या है कारण, लक्षण, बचाव व उपाय ?

मस्तिष्क पर लगी चोट इंसान के दिमाग को पूरी तरह से हिला कर रख देती है, इसलिए जरूरी है की इंसान को कही भी आने, जाने के वक़्त बहुत सतर्कता बरतनी चाहिए। दिमाग पर लगी चोट से इंसान को और क्या नुकसान होते है इसके लक्षण क्या है, इसके कारण क्या है और इससे हम कैसे खुद का बचाव कर सकते है इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे ;

दिमाग की चोट के क्या कारण है ?

  • दिमाग की चोट आम तौर पर बच्चों और बूढ़ों में देखने को मिलती है। 
  • ब्रेन इंजरी के कारणों में रोड पर होने वाले एक्सीडेंट या किसी दीवार आदि पर सिर टकराना भी हो सकते है। 
  • खेलते समय सिर पर आने वाली चोट, बॉक्सिंग, फुटबॉल और बेसबॉल के समय सिर पर मुक्का या बॉल लगना भी दिमागी चोट के कारणों में शामिल है।

दिमाग में चोट के गंभीर कारण होने पर जल्द लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन के संपर्क में आए।

क्या है सिर पर चोट का लगना ?

  • सिर पर चोट लगने के कारणों की बात करें, तो इसमे हमारे द्वारा की गई लापरवाही नज़र आती है। 
  • सिर पर लगी चोट इंसान को पागल बना देती है। 
  • कई दफा तो ये चोट इंसान के मौत का कारण भी बन जाती है। 
  • सिर पर चोट कई बार लग जाती है और हमे पता ही नहीं लगता, इसलिए जरूरी है की किसी भी तरह की चोट अगर इंसान को लग जाए तो उसे जल्द डॉक्टर के संपर्क में आना चाहिए।

अगर आपके दिमाग में हल्की सी चोट लगी है, तो इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के संपर्क में आए।

लक्षण क्या है दिमाग में चोट लगने के ?

सिर पर लगे चोट के लक्षणों की बात करें तो ये इंसान को चोट लगने के 48 घंटे बाद नज़र आती है, जैसे ; 

  • सिर में दर्द की समस्या। 
  • अत्यधिक मानसिक और शारीरिक थकान का मेहसूस होना। 
  • पक्षाघात की समस्या। 
  • कमजोरी का महसूस होना। 
  • भूकंप के झटके का लगना। 
  • चोरी की हुई चीज का बरामद होना, वो भी दिमागी तौर से ग्रस्त इंसान के पास।  
  • प्रकाश की संवेदनशीलता का महसूस होना। 
  • नींद संबंधी विकार का सामना करना आदि।

दिमाग पर लगें चोट से कैसे करें खुद का बचाव ? 

  • गाड़ी चलाते समय सीट बेल्ट का प्रयोग करें।
  • बाइक या साइकिल चलाते वक़्त हर समय हेलमेट जरूर पहनें।
  • शराब पी कर ड्राइविंग बिलकुल न करें।
  • ऐसे कार्पेट घर में न लाएं जिनसे आप फिसल कर नीचे गिर सकते है।
  • गीले फ्लोर पर चलने से बचें।
  • नियमित रूप से अपनी आंखों का चेक अप करवाते रहें।
  • बाथरूम में जाते समय अपना खास ख्याल रखें।
  • अगर नहाने के बाद कपड़े पहन रहे है, तो एक हाथ से किसी चीज को पकड़ लें ताकि फिसलने का रिस्क कम हो सके।

दिमागी चोट से बचाव के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

  • अगर आपके दिमाग में गहरी चोट लग गई है तो इससे बचाव के लिए आपको फिजिकल और ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट की जरूरत होगी। 
  • अगर आप इस तरह की थेरेपिस्ट का चयन करना चाहते है, तो इसके लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।  
  • वहीं इस हॉस्पिटल में मरीज़ का इलाज आधुनिक उपकरणों की मदद से किया जाता है। 
  • और तो और यहाँ के स्टाफ की बात करें तो उन्हे भी अपनी फील्ड का काफी सालों का अनुभव है।

सुझाव :

किसी भी तरह के नशीली चीजों का सेवन करके कृपया वाहन न चलाए, वर्ना चोट के साथ जान जानें का खतरा भी हो सकता है।

Send Us A Message

    क्या मिर्गी महिलाओं में गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती है?
    EpilepsyHindi

    क्या मिर्गी महिलाओं में गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती है?

    • April 17, 2024

    • 295 Views

    एक वक्त में कहा जाता था कि मिर्गी से पीड़ित महिलाए, कभी…

    मस्तिष्क में अवरुद्ध धमनियाँ या स्ट्रोक के क्या है कारण, लक्षण जोखिम कारक और उपचार के तरीके ?
    Neurologist

    मस्तिष्क में अवरुद्ध धमनियाँ या स्ट्रोक के क्या है कारण, लक्षण जोखिम कारक और उपचार के तरीके ?

    • April 12, 2024

    • 3062 Views

    मस्तिष्क में अवरुद्ध धमनियां, जो अक्सर स्ट्रोक का कारण बनती है, एक…

    सिर दर्द के प्रकार और घरेलु उपायों को जानकर हम कैसे इससे छुटकारा पा सकते है ?
    HeadacheHindi

    सिर दर्द के प्रकार और घरेलु उपायों को जानकर हम कैसे इससे छुटकारा पा सकते है ?

    • April 8, 2024

    • 2595 Views

    सिरदर्द एक आम बीमारी है जो हमारे दैनिक जीवन को बाधित कर…