स्ट्रोक के लक्षण, प्रकार और तरीकों की मदद से कैसे करें इसकी पहचान ?

स्ट्रोक एक चिकित्सीय आपात स्थिति है, जिसकी यदि समय पर पहचान न की जाए और इलाज न किया जाए तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम चर्चा करेंगे कि स्ट्रोक के लक्षणों, प्रकारों और मूल्यांकन के लिए उपयोग की जाने वाली विधियों को समझकर स्ट्रोक की पहचान कैसे करें ;

स्ट्रोक के लक्षण क्या है ?

अचानक सुन्न होना या कमज़ोरी : 

स्ट्रोक के सबसे आम लक्षणों में से एक अचानक सुन्न हो जाना या कमज़ोरी है, जो अक्सर शरीर के एक तरफ होता है। यह आपके चेहरे, बांह या पैर को प्रभावित कर सकता है। इसे पहचानने के लिए दोनों हाथों को ऊपर उठाकर देखें। यदि कोई नीचे की ओर बहता है, तो यह स्ट्रोक का संकेत हो सकता है।

भ्रम या बोलने में परेशानी : 

स्ट्रोक के कारण अचानक भ्रम, बोलने में कठिनाई या अस्पष्ट वाणी हो सकती है। यदि आपका कोई परिचित वाक्य बनाने या आपको समझने में परेशानी महसूस करता है, तो यह स्ट्रोक का लक्षण हो सकता है।

चलने में परेशानी का सामना करना : 

स्ट्रोक आपके संतुलन और समन्वय को प्रभावित कर सकता है। स्ट्रोक का अनुभव करने वाले व्यक्ति को चलने में परेशानी हो सकती है, लड़खड़ाना हो सकता है, या अस्थिर लग सकता है। इस लक्षण की जांच के लिए उन्हें सीधी रेखा में चलने के लिए कहें।

गंभीर सिरदर्द : 

अचानक, गंभीर सिरदर्द, जिसे अक्सर जीवन का सबसे खराब सिरदर्द कहा जाता है, और इस तरह के सिर दर्द स्ट्रोक का संकेत दें सकते है। यदि यह सिरदर्द अन्य लक्षणों के साथ है, तो तत्काल चिकित्सा सहायता लेना आवश्यक है।

दृष्टि संबंधी समस्याएं : 

दृष्टि संबंधी गड़बड़ी, जैसे अचानक धुंधली दृष्टि या एक या दोनों आंखों में देखने में कठिनाई, स्ट्रोक का संकेत हो सकता है। आप इस लक्षण की जांच के लिए व्यक्ति को एक आंख और फिर दूसरी आंख ढकने के लिए कह सकते है।

अगर आपको स्ट्रोक के दौरान गंभीर लक्षण का सामना करना पड़ रहा है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

स्ट्रोक के प्रकार क्या है ?

स्ट्रोक के दो प्राथमिक प्रकार है, इस्केमिक और रक्तस्रावी ;

  • इस्केमिक स्ट्रोक : 

यह स्ट्रोक का सबसे आम प्रकार है, जो सभी मामलों में लगभग 87% है। यह तब होता है जब रक्त का थक्का या प्लाक का निर्माण मस्तिष्क में रक्त वाहिका को अवरुद्ध कर देता है। इससे रक्त प्रवाह और ऑक्सीजन की कमी हो जाती है, जिससे मस्तिष्क कोशिकाएं मर जाती है।

  • रक्तस्रावी स्ट्रोक : 

रक्तस्रावी स्ट्रोक कम आम लेकिन अधिक गंभीर होते है। वे तब होते है जब मस्तिष्क में रक्त वाहिका फट जाती है, जिससे मस्तिष्क के अंदर रक्तस्राव होता है। उच्च रक्तचाप और धमनीविस्फार सामान्य कारण है।

स्ट्रोक की पहचान करने के तरीके क्या है ?

  • स्ट्रोक के लक्षणों को पहचानना महत्वपूर्ण है, लेकिन विशिष्ट तरीकों का उपयोग स्ट्रोक निदान की पुष्टि करने में मदद कर सकता है ;
  • फास्ट एक्रोनिम प्रमुख स्ट्रोक लक्षणों को याद रखने का एक सरल तरीका है। चेहरा झुकना, हाथ की कमजोरी, बोलने में कठिनाई का आना। यदि आप इनमें से कोई भी संकेत को देखते है, तो तुरंत चिकित्सा सहायता लेने का समय है।
  • स्ट्रोक की पहचान और उपचार में समय महत्वपूर्ण है। उस समय पर ध्यान दें जब लक्षण पहली बार प्रकट होते है, क्योंकि कुछ उपचार समय के प्रति संवेदनशील होते है। चिकित्सा पेशेवरों को यह जानना आवश्यक है कि लक्षण कब शुरू हुए।
  • व्यक्ति को मुस्कुराने (चेहरे की कमजोरी की जांच करने के लिए), दोनों बाहों को ऊपर उठाने (हाथ की कमजोरी का आकलन करने के लिए), और एक सरल वाक्य दोहराने (बोलने में कठिनाई का मूल्यांकन करने के लिए) कहकर त्वरित स्ट्रोक परीक्षण करें।
  • यदि आपको लगें की किसी को स्ट्रोक हुआ है, तो संकोच न करें। बल्कि तुरंत 911 पर कॉल करें। भले ही लक्षणों में सुधार दिख रहा हो, फिर भी चिकित्सकीय सहायता लेना महत्वपूर्ण है क्योंकि वे फिर से खराब हो सकते है।

अगर आपको हाथों पैरों की कमजोरी, बोलने में कठिनाई जैसी समस्या का सामना करना पड़े, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

स्ट्रोक के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

अगर आप स्ट्रोक की समस्या से खुद का बचाव करना चाहते है, तो इसके लिए आपको न्यूरो सिटी हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। वहीं इस हॉस्पिटल में अनुभवी डॉक्टरों के द्वारा मरीज का इलाज किया जाता है। और साथ ही यहाँ के डॉक्टर काफी अच्छे सलाहकार भी है तो अगर आप अपने स्ट्रोक के बारे में उनसे चर्चा करेंगे तो वो आपको काफी अच्छी सलाह देंगे साथ ही स्ट्रोक से आप बाहर कैसे आ सकते है, इसके बारे में भी वो आपको जानकारी देंगे।

निष्कर्ष :

स्ट्रोक से निपटने में समय बहुत महत्वपूर्ण है, इसलिए इन महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में जागरूक होने से जीवन बचाने में मदद मिल सकती है। स्ट्रोक के लक्षण मौजूद होने पर तेजी से कार्य करना और चिकित्सा सहायता लेना याद रखें, क्योंकि शीघ्र हस्तक्षेप से पूरी तरह ठीक होने की संभावना में काफी सुधार हो सकता है।

 

Send Us A Message

    जानिए माइग्रेन और साइनस में अंतर क्या है ?
    HindiMigraine

    जानिए माइग्रेन और साइनस में अंतर क्या है ?

    • June 7, 2024

    • 149 Views

    आज के दौर में सिरदर्द एक ऐसी परेशानी है,जो कई गंभीर समस्याओं…

    Expert Bronchoscopy Surgery Treatment
    Neurologist

    Expert Bronchoscopy Surgery Treatment

    • June 4, 2024

    • 153 Views

    At Neurociti Hospital, our experienced team of doctors understands the uniqueness of…

    मिर्गी के दौरे से जुड़े आठ ऐसे मिथ्स, जिसका जानना बेहद ज़रूरी है
    EpilepsyHindi

    मिर्गी के दौरे से जुड़े आठ ऐसे मिथ्स, जिसका जानना बेहद ज़रूरी है

    • May 28, 2024

    • 1376 Views

    मिर्गी का अटैक या दौरे बहुत ही  खतरनाक बीमारी है, जिससे पीड़ित…