कैसे वेट लोस्स से माइग्रेन हो सकता है दूर ?

आज के समय में ५० से ६० परसेंट लोग मोटापा से घिरे हुए है जो कि एक जटिल और बहुक्रियात्मक स्थिति है जो आनुवंशिक, पर्यावरणीय, व्यावहारिक और चयापचय कारकों के संयोजन से प्रभावित होती है। मोटा व्यक्ति पतले होने के लिए बहुत अभ्यास करता है लेकिन कई बार कोई बीमारी ऐसी भी जुड़ जाती है जो सही नहीं होती पर शरीर के वजन घटने से समय लेकर ठीक भी हो जाती है। ऐसे ही माइग्रेन जो वजन घटने से ठीक हो सकता है। 

आइए जाने कैसे 

माइग्रेन एक प्रकार का सिरदर्द है जो आवर्ती, तीव्र सिरदर्द की विशेषता है जिसमें अक्सर धड़कते हुए दर्द, मतली और प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता शामिल होती है। हालांकि वजन कम करना ही माइग्रेन का कोई गारंटीशुदा इलाज नहीं है, लेकिन स्वस्थ जीवन शैली अपनाने से, जिसमें वजन घटाना भी शामिल हो सकता है, कुछ व्यक्तियों के लिए माइग्रेन प्रबंधन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। वजन घटाना माइग्रेन की आवृत्ति और गंभीरता को कम करने के व्यापक दृष्टिकोण का सिर्फ एक घटक है। यहां बताया गया है कि वजन प्रबंधन सहित एक स्वस्थ जीवन शैली, माइग्रेन से राहत में कैसे योगदान दे सकती है:

  • रक्त प्रवाह में सुधार

नियमित शारीरिक गतिविधि में शामिल होने और स्वस्थ वजन बनाए रखने से बेहतर रक्त परिसंचरण में योगदान हो सकता है, जिस से संभावित रूप से संवहनी परिवर्तनों के कारण होने वाले माइग्रेन का खतरा कम हो सकता है।  

  • हार्मोनल संतुलन

कुछ व्यक्तियों के लिए, वजन घटाने से हार्मोनल संतुलन बिगड़ सकता है, जो तब प्रासंगिक हो सकता है जब हार्मोनल उतार-चढ़ाव माइग्रेन का कारण हो। 

  • सूजन कम हो गई

स्वस्थ आहार और जीवनशैली में बदलाव के माध्यम से वजन घटाने से पुरानी सूजन को   कम करने में मदद मिल सकती है , जो कुछ लोगों में माइग्रेन के विकास में भूमिका निभा सकती है। 

  • बेहतर नींद

स्वस्थ नींद पैटर्न स्थापित करना और पर्याप्त नींद प्राप्त करना माइग्रेन के प्रबंधन में महत्वपूर्ण है। वजन घटाने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार से नींद की गुणवत्ता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

  • तनाव में कमी 

जब लोगों का वजन कम हो जाता है, तो प्रति माह माइग्रेन से पीड़ित दिनों की संख्या कम हो जाती है। स्वस्थ जीवनशैली अपनाने में अक्सर तनाव प्रबंधन रणनीतियाँ शामिल होती है, जैसे नियमित व्यायाम और विश्राम तकनीकें। चूँकि तनाव एक आम माइग्रेन ट्रिगर है, इसलिए तनाव के स्तर को कम करने से माइग्रेन से राहत मिल सकती है।

यह ध्यान रखना आवश्यक है कि वजन घटाने और माइग्रेन के बीच संबंध जटिल है और प्रत्येक व्यक्ति में अलग- अलग होता है। जबकि कुछ व्यक्तियों को वजन घटाने के साथ माइग्रेन की आवृत्ति या तीव्रता में कमी का अनुभव हो सकता है, दूसरों को कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं दिख सकता है। इसके अतिरिक्त, कुछ मामले में तेजी से या अत्यधिक वजन घटने से संभावित रूप से माइग्रेन हो सकता है।  

माइग्रेन में क्या नहीं खाना चाहिए

माइग्रेन की बीमारी से परेशान इंसान को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। अगर आप माइग्रेन से पीड़ित हैं तो आपको कुछ खाद्य पदार्थ के सेवन से बचना चाहिए। माइग्रेन की बीमारी में प्रोसेस्ड फूड, कैफीन युक्त पेय, चॉकलेट, डेरी पदार्थ, कुछ फल सब्जी जैसे एवोकाडो, टमाटर, कोल्ड ड्रिंक, सोडा वाले खाद्य पदार्थ और अल्कोहल जैसी चीजों के सेवन से बचना चाहिए। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन खाद्य पदार्थों के प्रति व्यक्तिगत प्रतिक्रियाएं अलग-अलग हो सकती हैं, और हर कोई एक ही ट्रिगर के प्रति संवेदनशील नहीं होगा। 

           वजन घटाने के लिए संतुलित और पौष्टिक आहार शामिल करना आवश्यक है। संपूर्ण खाद्य पदार्थों पर ध्यान दें, जैसे:

  • लीन प्रोटीन: पोल्ट्री, मछली, टोफू, फलियां और मांस के लीन टुकड़े जैसे स्रोत शामिल करें।
  • सब्जियाँ और फल: विभिन्न प्रकार के रंग-बिरंगे फल और सब्जियां आवश्यक विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट प्रदान करते हैं।
  • साबुत अनाज: साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस, क्विनोआ, जई और साबुत गेहूं चुनें।
  • स्वस्थ वसा: एवोकाडो, नट्स, बीज और जैतून का तेल जैसे स्वस्थ वसा के स्रोतों को शामिल करें।
  • कम वसा वाली डेयरी: कैल्शियम और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों के लिए कम वसा या वसा रहित डेयरी विकल्प चुनें।

जलयोजन: हाइड्रेटेड रहने के लिए पूरे दिन खूब पानी पिएं।

Send Us A Message

    क्या मिर्गी महिलाओं में गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती है?
    EpilepsyHindi

    क्या मिर्गी महिलाओं में गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती है?

    • April 17, 2024

    • 295 Views

    एक वक्त में कहा जाता था कि मिर्गी से पीड़ित महिलाए, कभी…

    मस्तिष्क में अवरुद्ध धमनियाँ या स्ट्रोक के क्या है कारण, लक्षण जोखिम कारक और उपचार के तरीके ?
    Neurologist

    मस्तिष्क में अवरुद्ध धमनियाँ या स्ट्रोक के क्या है कारण, लक्षण जोखिम कारक और उपचार के तरीके ?

    • April 12, 2024

    • 3062 Views

    मस्तिष्क में अवरुद्ध धमनियां, जो अक्सर स्ट्रोक का कारण बनती है, एक…

    सिर दर्द के प्रकार और घरेलु उपायों को जानकर हम कैसे इससे छुटकारा पा सकते है ?
    HeadacheHindi

    सिर दर्द के प्रकार और घरेलु उपायों को जानकर हम कैसे इससे छुटकारा पा सकते है ?

    • April 8, 2024

    • 2595 Views

    सिरदर्द एक आम बीमारी है जो हमारे दैनिक जीवन को बाधित कर…